विशेष

Air Strike पर वायुसेना चीफ का बड़ा बयान- अभी खत्म नहीं हुआ है ऑपरेशन, पीएम मोदी ने भी दिए संकेत

विंग कमांडर अभिनंदन की वतन वापसी जरुर हो गई है, लेकिन आतंकवाद के मुद्दे पर भारत औऱ पाकिस्तान के बीच तनाव बरकरार है। भारतीय वायुसेना द्वारा पाकिस्तान के बालाकोट में हुई एयरस्ट्रइक से पाकिस्तान बौखलाया और पलट कर जवाब भी देने की कोशिश की। इन कुछ दिनों ने भारत औऱ पाकिस्तान के रिश्तों में तल्खी और भी ज्यादा बढ़ा दी है। पाकिस्तान खुद ऐसा कुछ भी मानने से लागातर इनकार कर रहा है वहीं भारत में कुछ ऐसा नेता हैं जो एयरस्ट्राइक के सबूत मांग रहे हैं, लेकिन भारतीय वायुसेना के चीफ बीएस धनोआ ने एक ऐसा बयान दिया है जिसके बाद सभी को शांत हो जाना चाहिए।

अभी ऑपरेशन जारी है

बता दें क भारतीय वायुसेना के चीफ बीएस धनोआ जिनके नेतृत्व में एयरस्ट्राइक को अंजाम दिया गया उन्होंने 4 मार्च को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की । धनोआ ने कहा कि अभी भी सेना का ऑपरेशन जारी है( I will not comment on ongoing opertion, its still ongoing)

वहीं शाम तक पीएम मोदी ने भी अपनी बातों से बता दिया की अभी भी हिसाब मांगने की जरुरत नहीं है क्योंकि कार्य पूरा ही नहीं हुआ है। दरअसल पीएम मोदी ने गुजरात में अहमदाबाद के एक कार्यक्रम में स्ट्राइक करते हुए कहा कि पाकिस्तान के खिलाफ ये आखिरी कार्रवाई नहीं है।

.

बता दें कि प्रेस कॉन्फ्रेस में धनोआ ने कहा था कि मैं जारी ऑपरेशन पर किसी भी तरह की टिप्पणी नहीं करना चाहूंग। उनकी इस बात से तो यही लगता है कि पाकिस्तान के खिलाफ वायुसेना का ऑपरेशन अभी खत्म नहीं हुआ है। इसका मतलब ये कह सकते हैं कि अगर पाकिस्तान को लग रहा हो कि हम बीती बातों को भूल जाएंगे और फिर सब कुछ शांत  होने के बाद व चुपके से कोई हमला कर देगा तो अपनी इस गलतफहमी को दूर कर लेना ही सही है। वैसे भी भारत की लड़ाई आंतकवाद से है, पाकिस्तान की फौज, सरकार और आवाम से नहीं।

पाताल से भी खोज लाएंगे आतंकवादी

वहीं पीएम मोदी ने भी कहा कि पाकिस्तान में पल रहे आतंकवाद के सफाया करने के लिए भारत की तरफ से ये कोई आखिर कार्रवाई नहीं की गई थी। पुलवामा और दूसरे हमले में जिम्मेदार लोग अगर पाताल में भी छिपे होंगे तो उन्हें खोज निकालेंगे और चुन चुन के मारा जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर एक काम पूरा हो जाता है तो हमारी सरकार सोती नहीं बल्कि दूसरी तैयारियों में लग जाती।

गौरतलब है कि भारतीय वाय़ुसेना की तरफ से की गई एयरस्ट्राइक की खबर ने पूरे देश में खुशी का माहौल ला दिया था, लेकिन धीरे धीरे आंकड़ों पर सरकार को घेरा जाने लगा। महबूबा मुफ्ती, ममता बनर्जी, अरविंद केजरीवाल जैसे नेताओं ने भी पीएम मोदी से सबूत  मांगे हैं। दरअसल एयरस्ट्राइक के बाद से करीब 200-300 आतंकियों के मारे जानी की खबर सामने आई थी, लेकिन इस बात की किसी भी तरह से पुष्टि नहीं हैं।

इस मामले पर वायुसेना का कहना था कि हमारा मिशन सिर्फ आतंकियों का खात्मा करना था, उसमें कितने आतंकी मरें इस बात को कोई हिसाब नहीं है। साथ ही उन्होंने फिर कह दिया की ये ऑपरेशन अभी खत्म नहीं हुआ है। ऐसे में नेताओं के तरफ से आ रहे इन बयानों पर अब रोक लग जानी चाहिए क्योंकि जो चीज अभी भी जारी है उसका पूरा हिसाब कैसे दिया जा सकता है।

ये भी पढ़ें

Back to top button