राजनीति

इस महीने है दो प्रधानमंत्रियों का जन्मदिन, देश को मिलेगा बड़ा तोहफा

सितंबर के महीने में दुनिया के दो ताकतवर देशों के प्रधानमंत्रियों का जन्मदिन है। एक दुनिया में अपनी टेक्नोलॉजी से लोहा मनवा रहा है। वहीं दूसरा दुनिया को चलाने का माद्दा रखता है । जी हां हम बात कर रहे हैं देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जिनका 17 सितंबर को जन्मदिन हैं। वहीं इस महीने जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे का जन्मदिन है। ये इत्तेफाक की बात हैं, की दोनों में खूब अच्छी दोस्ती भी है। इस दोस्ती का ही असर है कि दोनों ने मिलकर देश को जन्मदिन का तोहफा देने वाले हैं। जिसके बाद भारत दुनिया के चुनिंदा देशों में शामिल हो जाएगा, जहां हवा से बातें करती बुलेट ट्रेन दौड़ती है।

देश में जल्द दौड़ेगी बुलेट ट्रेन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे 13-14 सितंबर को गुजरात दौरे पर आ सकते हैं। दोनों देशों के पीएम यहां 1 लाख करोड़ की अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन के प्रोजेक्ट की नींव रख सकते हैं. सूत्रों की मानें, तो शिंजो आबे पीएम मोदी के साथ साबरमती गांधी आश्रम भी जा सकते हैं। इसके अलावा दोनों नेता कई बड़े प्रोजेक्ट की शुरुआत करेंगे जिसमें जापान इंडस्ट्रियल पार्क फस्ट और सेकेंड की शुरुआत करेंगे। कहा जा रहा है कि 15 से 20 जापानी कंपनियां गुजरात में निवेश करने की इच्छुक हैं।

2015 में हुआ था करार

आपको बता दें कि दोनों देशों के बीच बुलेट ट्रेन को लेकर 2015 में मेमोरेंडम साइन किया गया था… इसके तहत जापान में टोक्यो से कोब से बीच चलने वाली बुलेट ट्रेन की तर्ज पर मुंबई से अहमदाबाद के बीच ट्रेन चलाने का प्रस्ताव मंजूर किया गया था। नवंबर, 2016 में पीएम मोदी ने अपने जापान दौरे के दौरान इस बुलेट ट्रेन में सफर किया था. उसी ट्रेन की टेक्नोलॉजी को भारत में इस्तेमाल किया जाएगा।

दोनो प्रधानमंत्रियों का है जन्मदिन

नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी बुलेट ट्रेन योजना पर इसी महीने काम शुरू होने वाला है। भारत और जापान के पीएम 13 से 15 सितंबर के बीच अहमदाबाद में इसकी नींव रखेंगे। 17 सितंबर को मोदी का जन्मदिन है और 21 को जापान के पीएम शिंजो आबे का। दोनों के जन्मदिन के बीच किसी तारीख को इसका इनॉगरेशन हो सकता है। 508 किमी रूट वाली बुलेट ट्रेन को दिसंबर 2023 तक पूरा करने का लक्ष्य था, पर अब 15 अगस्त 2022 तक काम पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया है।

इसी साल आजादी के 75 साल हो रहे हैं। प्रोजेक्ट में पहली बार देश में समुद्र के नीचे पटरी बिछाई जाएगी। ठाणे-मुंबई के बीच 7 km का ये रास्ता समुद्र के नीचे होगा। बुलेट ट्रेन की ट्रेनिंग के लिए वडोदरा में ट्रेनिंग सेंटर खोला जाएगा।  सिग्नलिंग और पटरी बिछाने का काम जापान करेगा। बाकी काम के लिए टेंडर निकाले जाएंगे। करार के तहत सिर्फ जापानी या भारतीय कंपनियां ही हिस्सा ले सकती हैं।

घट जाएगी मुंबई-अहमदाबाद की दूरी

रेलवे के मुताबिक पहले हफ्ते से ही रोज 36000 यात्री सफर करेंगे। मुंबई-अहमदाबाद की मौजूदा 6-7 घंटे की यात्रा बुलेट ट्रेन से 2.07 घंटे की रह जाएगी। नए रेल मंत्री ने बुलेट प्रोजेक्ट समय पर पूरा करने को कहा है। बता दें रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बुलेट ट्रेन पर अब तक के काम की समीक्षा की। साथ ही समय से काम पूरा करने का निर्देश दिया। उनके आने के बाद माना जा रहा है कि 2022 तक काम पूरा होगा।

बुलेट ट्रेन एक नजर

मुंबई-अहमदाबाद का रूट 508 किमी होगा। जिसमें 21 किमी ठाणे-मुंबई के बीच बुलेट ट्रेन सुरंग में चलेगी। जिसमें से 7 किमी मार्ग समुद्र के नीचे होगा। इस रूट में 350 किमी/घंटे अधिकतम रफ्तार से ट्रेन चलेगी। मुंबई-अहमदाबाद के बीच में 12 स्टेशन होंगे। जहां हर स्टेशन पर 2.45 मिनट का स्टॉप होगा।

Back to top button