राशिफल

रावण संहिता के ये प्राचीन उपाय, रातों-रात बदल सकते है आपकी किस्मत

लंकापति रावण को दुनिया एक दुष्ट असुर के रूप में जानती हैं, जिसने सीता माता का अपहरण कर प्रभु श्रीराम को युद्ध के लिए ललकारा था, पर अगर इस प्रसंग से अलग होकर रावण के बारे में विचार करें तो पाएंगे कि वो प्रकाण्ड विद्वान भी था, जिसे सभी शास्त्रों का ज्ञान था। विशेषकर रावण को ज्योतिष और तंत्र शास्त्र में सिद्धी प्राप्त थी। ऐसे में रावण द्वारा रचित ‘रावण संहिता’ में ज्योतिष और तंत्र शास्त्र की कई महत्वपूर्ण बातों का वर्णन मिलता है, इस संहिता में तंत्र विद्या के जरिए आन वाले कल यानी भविष्य को जानने के रहस्य बताए गए हैं, साथ ही ‘रावण संहिता’ में बुरे समय को अच्छे समय में बदलने के लिए भी कई सारे चमत्कारी तांत्रिक उपाय बताए हैं। मान्यता है ये तांत्रिक उपाय इतने सिद्ध हैं कि इनका सही विधि से पालन कर लिया जाए तो इनके जरिए रातों-रात किस्मत बदल सकती है। आज हम आपको रावण संहिता में वर्णित ऐसे ही कुछ चमत्कारी तांत्रिक उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं।

धन लाभ के लिए उपाय

रावण संहिता में बताए गए उपाय के अनुसार, किसी भी शुभ दिन सुबह जल्दी उठें और नित्यकर्म करने के बाद किसी पवित्र नदी या जलाशय के पास जाएं और उसके किनारे एकांत स्थान पर वट वृक्ष के नीचे चमड़े का आसन बिछाएं।इस आसन पर बैठकर आपको धन प्राप्ति मंत्र का जप करना है जो कि इस प्रकार है.. ऊँ ह्रीं श्रीं क्लीं नम: ध्व: ध्व: स्वाहा। ऐसा आपको 21 दिनों तक करना है और इसके लिए रुद्राक्ष की माला उपयोग करनी है। 21 दिनों तक अधिक से अधिक संख्या में धन प्राप्ति मंत्र जाप करें और जैसे ही यह मंत्र सिद्ध होगा, आपके जीवन में धन प्राप्ति के नए योग बनने लगेंगे।

वहीं अगर किसी व्यक्ति को धन प्राप्त करने में बार-बार रुकावटें आ रही हों तो उसके लिए ये दूसरा उपाय है..

इस उपाय 40 दिनों तक आपको अपने घर में ही करना है.. इसके लिए आपको प्रतिदिन 108 बार धन प्राप्ति मंत्र का जप करना है। मंत्र इस प्रकार है..

ऊँ सरस्वती ईश्वरी भगवती माता क्रां क्लीं, श्रीं श्रीं मम धनं देहि फट् स्वाहा।

इस मंत्र का आप नियमित रूप से हर दिन 108 बार जप करते हैं तो कुछ ही दिनों आपको महालक्ष्मी की कृपा प्राप्त हो जाएगी और इससे आपके जीवन में आ रही आर्थिक समस्याओं हमेशा के लिए दूर हो जाएंगी।

महालक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए तांत्रिक उपाय

ये उपाय आपको किसी शुभ मुहूर्त जैसे दीपावली, अक्षय तृतीया, होली आदि की रात को करना चाहिए। विशेषकर ये दीपावली की रात में ये उपाय करने से श्रेष्ठ फल मिलता है। इस उपाय के अनुसार, दीपावली की रात आपको कुमकुम या अष्टगंध से एक स्वच्छ थाली पर एक मंत्र लिखना है , जो कि इस प्रकार है..

मंत्र: ऊँ ह्रीं श्रीं क्लीं महालक्ष्मी, महासरस्वती ममगृहे आगच्छ-आगच्छ ह्रीं नम:।

साथ ही आपको इस मंत्र का जप भी है। इसके लिए आप किसी साफ-स्वच्छ आसन पर बैठकर, रुद्राक्ष की माला या कमल गट्टे की माला से इस मंत्र जप करें। ध्यान रहे आपको इस मंत्र जप का कम से कम 108  बार जप करना है। वैसे इससे अधिक बार भी आप अपनी श्रद्धानुसार इस मंत्र का जाप कर सकते हैं ।

वहीं  दीपावली के समय किया जाने योग्य एक और उपाय का वर्णन रावण संहिता में मिलता है जिसके अनुसार बताए तंत्र उपाय के जरिए आपको दसों दिशाओं से यानी हर तरफ से धन लाभ मिल सकता है।

इसके लिए आप दिवाली की रात में घर में विधि-विधान से महालक्ष्मी का पूजन करें और पूजन के बाद सो जाएं। अगली सुबह जल्दी उठें और नींद से जागने के बाद, पलंग से उतरने से पहले आपको एक मंत्र का 108 बार जाप करना है जो कि इस प्रकार है..

मंत्र: ऊँ नमो भगवती पद्म पदमावी ऊँ ह्रीं ऊँ ऊँ पूर्वाय दक्षिणाय उत्तराय आष पूरय सर्वजन वश्य कुरु कुरु स्वाहा।

बिस्तर पर बैठे हुए इस मंत्र जप करने के बाद, दसों दिशाओं में दस-दस बार फूंक मारें। इस एक उपाय के करने से आपको को हर तरफ से पैसा की प्राप्ति होने लगेगी।

यदि आप देवताओं के कोषाध्यक्ष कुबेर की कृपा से अकूत धन संपत्ति चाहते हैं तो यह उपाय करें।

Show More

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Back to top button