समाचार

कंझावला केस: 6 माह पहले भी हुआ था अंजली का एक्सीडेंट, 15 दिन रही भर्ती, बहन-मौसी ने किया खुलासा

नई दिल्ली : दिल्ली का कंझावला कांड लगातार सुर्ख़ियों में बना हुआ है. इस केस में आरोपियों से पुलिस लगातार पूछताछ कर रही है. दिल्ली के सुल्तानपुरी थाना क्षेत्र में 1 जनवरी रात को बलेनो कार से घसीटकर एक लड़की की हत्या कर दी गई थी. मृतक लड़की का नाम अंजली है.

बताया जा रहा है कि आधी रात को एक कार ने मृतक अंजली को करीब 10 से 12 किलोमीटर तक घसीटा था. इस दरिंदगी ने हर किसी का दिल दहला दिया है. इस मामले में अब तक 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है जबकि अभी पुलिस को एक और आरोपी की तलाश है.

इसी बीच इस केस में मृतक अंजलि की बड़ी बहन और मौसी ने कई चौंकाने वाले खुलासे किए है. परिवार के लोगों ने एक समाचार चैनल से बातचीत में इस बात का खुलासा किया था कि छह माह पहले भी अंजलि का भयानक एक्सीडेंट हुआ था. अंजली को एक अज्ञात वाहन ने जोरदार टक्कर मारी थी.

कार की जोरदार टक्कर में अंजलि को गंभीर चोट आई थी. इस जानलेवा हादसे के बाद अंजली को 15 दिनों तक सफदरगंज के एक अस्पताल में भर्ती रहना पड़ा था. अंजली के सिर में गंभीर चोट आई थी और उसे टांके लगाने पड़े थे. परिजनों ने बताया कि अंजली के ऑपरेशन तक की नौबत आ गई थी.

अंजली अपनी स्कूटी से कहीं जा रही थी तब एक अज्ञात वाहन ने उसे टक्कर मार दी थी. गाड़ी को तो नुकसान हुआ ही वहीं अंजली को भी गंभीर चोट आई थी. हादसे के बाद अंजली बेहोश हो गई थी जैसा कि उसकी मौसी बेबी ने मीडिया को बताया. परिजनों के मुताबिक दो दिनों तक अंजली कुछ बोल भी नहीं पाई थी.

कार में मौजूद थे 4 लोग, पांचवा आरोपी घर में था मौजूद

kanjhawala case

दूसरी ओर अभी तक कंझावला केस में यह दावा किया जा रहा था कि कार में हादसे के समय पांच लोग सवार थे लेकिन अब नया खुलासा यह हुआ है कि कार में हादसे में समय पांच नहीं बल्कि चार आरोपी सवार थे जबकि पांचवा आरोपी अपने घर में मौजूद था. यह जानकारी शक्रवार को दिल्ली पुलिस ने दी.

कार मालिक आशुतोष भी हुआ गिरफ्तार

मामले में कार के मालिक आशुतोष को भी पुलिस ने गुरुवार शाम को गिरफ्तार कर लिया है. आशुतोष को तीन दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है. पुलिस ने आशुतोष के अलावा अंकुश नाम के एक आरोपी के खिलाफ पुलिस को गुमराह करने और साक्ष्य छिपाने का केस दर्ज किया है.

Back to top button