समाचार

‘मधु का पांचवां बच्चा’ आधार कार्ड में बच्ची का नाम देखकर छूट गई शिक्षिका की हंसी

सरकारी कर्मचारियों की लापरवाही तो अक्सर उजागर हो जाती है। फिर भी कई बार वो ऐसी गलती कर देते हैं जो हैरान कर देती है। सोशल मीडिया के दौर में उनकी ये गलतियां छिप भी नहीं पाती हैं। कुछ ऐसा ही हुआ है उत्तर प्रदेश में जहां एक बच्ची के आधार कार्ड में ऐसी लापरवाही सामने आई है जिसको देखकर हर कोई हैरान है।

यहां योगी सरकार ने स्कूल चलो अभियान को गंभीरता से लेने के आदेश दिए हैं। इस अभियान के तहत बच्चों के एडमिशन सरकारी स्कूलों में करवाए जा रहे हैं। इसी दौरान एक बच्ची अपनी मां के साथ प्रवेश लेने आई। उसके आधार कार्ड में नाम की जगह कुछ ऐसा लिखा था कि शिक्षिका भी सन्न रह गई।

यूपी के बदायूं जिले की घटना

ये घटना यूपी के बदायूं जिले से सामने आई है। यहां सरकारी मशीनरी की लापरवाही का हैरान करने वाला मामला सामने आया है। सरकार भले ही स्कूल चलो अभियान चला रही हो लेकिन सरकारी कर्मी इस अभियान पर पलीता लगाने के लिए तैयार हैं। उनकी गलतियों का खामियाजा बच्चों को भुगतना पड़ रहा है।

बदायूं के बिल्सी तहसील में ये मामला देखने को मिला। यहां रायपुर बुजुर्ग गांव है। इस गांव में रहने वाली मधु अपनी बच्ची को सरकारी स्कूल में पढ़ाना चाहती थी। इसी वजह से वो अपने पति दिनेश के साथ बेटी को लेकर सरकारी स्कूल पहुंची थी। यहां पर उसने शिक्षिका को बेटी का आधार कार्ड दिया तो वो हैरान हो गई।

हो गई ऐसी गलती, सोशल मीडिया पर बनने लगा मजाक

शिक्षिका ने जब आधार कार्ड देखा तो उसमें बेटी के नाम की जगह ‘मधु का पांचवा बच्चा’ लिखा हुआ था। ऐसी लापरवाही देखकर शिक्षिका भी सन्न रह गई। इसके बाद उन्होंने बताया कि इसमें बेटी का नाम नहीं है। ऐसे में वो बच्ची का एडमिशन स्कूल में नहीं कर सकती हैं। उनको इसे सही करवाकर आना होगा।

इसी के बाद से आधार कार्ड वायरल हो गया। वहीं मधु ने बताया कि वो अपनी बच्ची का एडमिशन करवाने गई थी। वहां सरकारी स्कूल में मैडम बैठी थीं। जब उनको बच्ची का आधार कार्ड दिया तो वो हंसने लग गईं। इसके बाद उन्होंने बताया कि आधार कार्ड में गलती है। इसको सुधरवाकर लाओ, तभी प्रवेश मिलेगा।

मधु का कहना है कि वो गरीब परिवार की है। वे लोग झोपड़ी में रहकर अपना जीवन गुजार रहे हैं। हालांकि उसका कहना है कि वो अपनी बेटी के बारे में सोचती है कि वो पढ़ लिखकर आगे बढ़े। वहीं उनके पति दिनेश भी यही चाहते हैं कि बेटी खूब पढ़े लिखे और खूब नाम रोशन करे।

Back to top button