बॉलीवुड

अपने गुस्से को कण्ट्रोल न करने पर बर्बाद हुआ गोविंदा का करियर, प्रोड्यूसर को दिखाई थी दादागिरी

बॉलीवुड इंडस्ट्री में ऐसे कई स्टार हैं जो अपने जमाने में काफी सफल हुआ करते थे. इसके साथ ही उनकी एक्टिंग तो मशहूर थी ही साथ ही मशहूर था उनका एट्टीट्यूड. आज उनमे से कई एक्टर ऐसे भी हैं जिनके पास न कोई प्रोजेक्ट हैं न ही किसी तरह की कोई फिल्म. उन्हें अब छोटा-मोटा रोल पाने के लिए भी कई चक्कर लगाने पड़ते हैं. इन्हीं एक्टर्स में से एक अभिनेता गोविंदा की बात करें तो अब वे सिल्वर स्क्रीन पर कम ही दिखाई पड़ते हैं.

गोविंदा 57 साल के हो चुके हैं उन्होंने एक बार एक इंटरव्यू में कहा था कि वह आज भी काम करने के लिए तैयार हैं. इसी इंडस्ट्री में एक समय ऐसा भी था जब गोविंदा का नाम एक तरफा हुआ करता था. हर कोई उन्हें ही अपनी फिल्मों में लेना चाहता था. गोविंदा ने अपने जमाने में कई एक से बढ़कर एक हिट फिल्मे दी थी. बावजूद इसके आज उनका करियर डूब चुका हैं.

कई रिपोर्ट्स की माने तो उनके बिहेवियर और ग्रुपिज्म के कारण उनका पूरा करियर तबाह हो गया. इसी बीच उनका एक किस्सा इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा हैं.ये किस्सा हैं एक एक प्रोड्यूसर को थप्पड़ मारने का. ज्ञात हो कि 1986 में प्रोड्यूसर प्राण लाल मेहता की फिल्म लव 86 रिलीज की गई थी. इसी फिल्म से गोविंदा ने इस इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाना शुरू की थी. इस फिल्म में उनके साथ नीलम मुख्य किरदार में थी. इस फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर काई अच्छा रेस्पॉन्स मिला था.

इसके बाद जब दूसरी बार प्राण लाल मेहता ने फिल्म मरते दम तक के लिए गोविंदा को साइन करना चाहा तो उस समय तक गोविंदा एक बड़े स्टार बन चुके थे. इस समय गोविंदा की मौजूदगी ही फिल्मों को हिट बना रही थी. मरते दम तक फिल्म के हिट होने के बाद प्राण लाल मेहता ने गोविंदा को फिल्म वो फिर आएगी और जंगबाज के लिए भी साइन कर लिया था.

हालांकि प्राण लाल मेहता ने बाद में वो फिर आएगी से गोविंदा को निकालकर जावेद जाफरी को अपनी फिल्म में ले लिया. प्राण लाल मेहता की ये बात गोविंदा को अच्छी नहीं लगी और उन्होंने फिल्म जंगबाज के लिए एक्टिंग करने में बहाने बनाना शुरू कर दिया. गोविंदा के इस तरह के व्यवहार से डायरेक्टर मेहुल कुमार को काफी गुस्सा आ रहा था. उन्होंने परेशान होकर इस फिल्म में गोविंदा का किरदार बहुत ही छोटा कर दिया था.

एक बार फिर जब फिल्म आसमान से ऊंचा का ट्रायल शो रखा गया तो गोविंदा ने देखा कि इस फिल्म में उनका किरदार बहुत ही छोटा हैं वह एक जूनियर आर्टिस्ट बनकर रह गए हैं. उन्होंने प्रोड्यूसर सुजीत कुमार से कहा कि फिल्म में उनका रोल बड़ा किया जाए. मगर इस प्रोड्यूसर ने उनकी एक नहीं सुनी. इन दोनों की ये बात बढ़ते-बढ़ते हाथापाई पर आ गई. गुस्से में आकर गोविंदा ने सुजीत कुमार को थप्पड़ मार दिया. इसके बाद इस फिल्म में डबिंग भी किसी और से करवाई गई.

गोविंदा ने इल्जाम, गैर कानूनी, जैसी करनी वैसी भरनी, मेरा लहू, खुदगर्ज, सिंदूर, जीते है शान से, घराना, शोला और शबनम, जान से प्यारा, पाप का अंत, हम, आंखे, आदमी खिलौना है, घर घर की कहानी, कुली नं. वन, हीरो नं. वन, आंटी नं. वन जैसी कई हिट फिल्मों में अभिनय किया है.

Back to top button
?>