बॉलीवुड

सैरोगेसी से हुआ था अबराम का जन्म, अमिताभ बच्चन को अपना दादा समझते हैं शाहरुख़ के लाडले

बॉलीवुड के किंग खान लोगों के दिलों पर बादशाह बनकर राज करते हैं, लेकिन अपने बच्चों के लिए वो एक आम पिता हैं। शाहरुख अपने तीनों बच्चों से बेहद प्यार करते हैं और उन्हें लेकर बहुत पोजेसिव रहते हैं। शाहरुख कभी सिर्फ सुहाना और आर्यन के पिता थे, लेकिन 2013 में वो अबराम के पिता बन गए। अबराम का जन्म 27 मई 2013 को मुंबई में हुआ था और आज वो अपना 7वां जन्मदिन मना रहे हैं। अबराम पैदा होने के साथ ही चर्चा में आ गए थे क्योंकि उनका जन्म सेरोगेसी से हुआ था। अबराम शाहरुख को तो बेस्ट मानते ही हैं इसके ही वो अमिताभ बच्चन को भी काफी पसंद करते हैं और इसकी वजह ये है कि कभी वो उन्हें अपना दादा मानने लगे थे।

अमिताभ को शाहरुख का पिता समझते हैं अबराम

एक इंटरव्यू में शाहरुख खान ने इस बात का खुलासा किया था। अबराम के घर में उनके माता-पिता और भाई-बहन है, लेकिन कोई बुजुर्ग नहीं है। ऐसे में वो अपने दादा दादी को बहुत मिस करते हैं। इस कारण से हीवो अमिताभ बच्चन को अपना दादा समझने लगे थे। दरअसल 2017 में अराध्या के जन्मदिन के मौके पर किंग खान अपने पूरे परिवार के साथ बिग बी के घर पहुंचे थे। उस वक्त शाहरुख, अबराम और अमिताभ की कई खूबसूरत तस्वीरें सामने आई थीं।

अमिताभ ने इस तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा था- अबराम नरम बुढ्ढी के बाल लेना चाहता था। हम उसे स्टॉल पर ले गए और उसे एक कोन दिलवाया। अबराम कॉटन कैंडी पाते ही खुशी से हंसने लगा…जूनियर शाहरुख खान। इस पर शाहरुख ने ट्वीट किया था- धन्यवाद सर, इस पल को अबराम कभी नहीं भूल पाएगा। वैसे वो सोचता है कि आप मेरे पिता हैं।

अबराम को नहीं मिला दादा को प्यार

बता दें कि अराध्या के जन्मदिन पर अबराम ने अमिताभ से हाथ मिलाया था और बात भी की थी। अमिताभ ने इंस्टाग्राम पर तस्वीर शेयर करते हुए लिखा था- शाहरुख खान के छोटे बेटे अबराम को लगता है कि मैं शाहरुख का पिता हूं और उसका दादा हूं। साथ ही अबराम को ये बात भी हैरान करती है कि मैं शाहरुख के साथ उनके घर पर क्यों नहीं रहता। इस पर शाहरुख ने कहा था- सर, कभी आकर हमारे साथ भी रहिए।


अबराम भले ही सुपरस्टार के बेटे हों, लेकिन किसी भी छोटे बच्चे की तरह ही उन्हें भी अपने दादा की याद आती हैं। अबराम चाहते है कि  घर में उनके दादा रहें और उसे प्यार करें। दरअसल शाहरुख के पिता मीर ताज मोहम्मद खान की मौत 1981 में कैंसर से हो गई थी।उस वक्त शाहरुख खुद सिर्फ 16 साल के थे। पिता के जाने के बाद मां भी उन्हें छोड़कर चली गईं। ऐसे में शाहरुख के तीनों बच्चों को कभी अपने दादा-दादी का प्यार नहीं मिल सका।

सैरोगेसी से हुआ था अबराम का जन्म

गौरतलब है कि अबराम के जन्म के वक्त शाहरुख और गौरी काफी चर्चा में आ गए थे। शाहरुख ने बताया था कि मेरे पास बेटा-बेटी दोनों हैं, लेकिन दोनों घर से बाहर रहते हैं। पहले वो साथ रहते थे तो हम उनके साथ ज्यादा वक्त बिता पाते थे, लेकिन पिछले कुछ सालों में वो घर से ज्यादा बाहर रहने लगे हैं। मैं और गौरी इस चीज को काफी मिस करते हैं इसलिए हमने तीसरे बच्चे की प्लानिंग की।

हालांकि तीसरे बच्चे की प्लानिंग के समय गौरी की उम्र 40 से ज्यादा हो गई थी। ऐसे में बच्चा कंसीव करना उनकी सेहत के लिए खतरनाक हो सकता था। इस वजह से शाहरुख और गौरी ने सेरोगेसी का सहारा लिया। उस वक्त ऐसा भी कहा गया था कि ये बच्चा शाहरुख और गौरी का नहीं बल्कि आर्यन का लव चाइल्ड हैं। शाहरुख ने इन सभी अफवाहों को खारिज करते हुए कहा था कि ये बच्चा उनका है और वो अपने बच्चों से जुड़ी झूठी अफवाहें नहीं सुन सकते। बता दें कि सुहाना भी इस वक्त लॉकडाउन में मुंबई में रुकी हैं और शाहरुख-गौरी अपने तीनों बच्चों के साथ समय बिता रहे हैं।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close