राजनीति

अफरीदी के बाद शोएब का कश्मीर पर बयान, ‘कब तक जिएंगे खून खराबा में’

शाहिद अफरीदी के बाद शोएब अख्तर ने कश्मीर पर बयान दिया है। शोएब के इस बयान को लेकर एक बार फिर से ट्विटर पर कश्मीर मुद्दा छिड़ता हुआ नजर आ रहा है। जी हां, सलमान खान के जेल जाने के बाद शोएब ने दुख जाहिर किया था, जिसके बाद उन्हें पाकिस्तानी टोलर्स का सामना करना पड़ा था, ऐसे में अब लोगों का गुस्सा शांत करने के लिए शोएब ने एक के बाद एक ताबड़तोड़ ट्वीट किया, जिसके बाद उनके ट्वीट पर तरह तरह की प्रतिक्रिया आ रही है। बता दें कि शोएब ने भारत पाकिस्तान के नफरत को लेकर बयान दिया है। आइये जानते हैं कि हमारे इस रिपोर्ट में क्या खास है?

शोएब ने कहा कि भारत पाकिस्तान जैसी नफरत पूरे दुनिया में नहीं है, ऐसे में अब  हम इस नफरत को लेकर आखिर और कब तक जीएंगे। इस दौरान उन्हें यूएन से अपील की। जी हां, शोएब ने कहा कि यूएन भारत पाकिस्तान मुद्दे पर जल्दी से  जल्दी दखल दें, क्योंकि अब बहुत हो गया है, दोनोंं तरफ से लोग मर रहे हैं, क्या इसी खून खराबा में हम ताउम्र जीएंगे? इस तरह के कई बयान भावुक होकर शोएब ने दिया। बता दें कि शोएब ने सलमान खान के बहाने पाकिस्तान और भारत का मुद्दा छेड़ा। इससे पहले शाहिद अफरीदी ने बयान दिया, जिसको लेकर भारतीयों ने खूब आलोचना की थी।

अख्तर ने कहा कि इस मसले पर दोनों सरकारों को आपस में बात करना चाहिए, क्योंकि 70 सालों से खून खराबा चल रहा है, हम अपने बच्चों को ऐसा माहौल देना चाहेंगे? साथ ही शोएब ने यह भी कहा कि अब इस मुद्दे पर खुलकर बातचीत करने का समय आ गया है, क्योंकि दोनों तरफ के मासूमों की जाने जा रही है, जोकि इंसानियत के नाते से बिल्कुल भी सही नहीं है। दरअसल, शोएब का मानना है कि भारत पाकिस्तान के बीच बहुत ही ज्यादा नफरत है, ऐसे में अब इसे मिल-जुलकर समेटना चाहिए, ताकि दोनोंं के बीच से नफरत की ये दीवार हट सके।

बताते चलें कि इस पहले अफरीदी ने भी ट्वीट किया था, जिस पर भारतीय क्रिकेटरों ने मुंह तोड़ जवाब दिया था। जी हां, अफरीदी ने कहा था कि कश्मीर में बेगुनाह पाकिस्तानी मारे जा रहे हैं, लेकिन यूएन सो रहा है, जोकि गलत है। साथ ही उन्होंने यूएन से भारत पर कार्रवाई करने की भी मांग की थी, ऐसे में तेंदुलकर ने कहा था  कि हमारे देश में सक्षम लोग है, बाहरी लोगों की बिल्कुल भी जरूरत नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close