शरीर की इन जगहों के पास कभी न रखें मोबाइल, सेहत के लिए है घातक

आज के वक्त में मोबाइल हमारी जरूरतों मे शामिल हो गया है.. सूचना के इस दौर में अब मोबाइल के बिना रहना असम्भव सा लगता है.. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या ये हमारी सेहत के लिए सही है। दरअसल मोबाइल का बढ़ता इस्तेमाल, रोजमर्रा की जिंदगी को तो आसान बना रहा है पर साथ ही ये सेहत को नुकसान भी पहुंचा रहा है। खासतौर पर स्मार्टफोन के रेडिएशन स्वास्थ्य पर बुरा असर डालते है। ऐसे में फोन को आपको कहां पर रखना चाहिए ये भी बड़ा विषय है.. आज हम आपको यही बतान जा रहे हैं कि शरीर के किस हिस्से के पास स्मार्टफोन रखना आपके लिए कितना नुकसानदेह हो सकता है।

कई सारे स्वास्थ्य शोध से ये स्पष्ट हो चुका है कि स्मार्टफोन का अधिक इस्तेमाल करने से आंखों की जलन और अनिद्रा की समस्या लोगों में आम हो रही है। वहीं इससे लोगों की सेक्स लाइफ और प्रजनन क्षमता भी प्रभावित हो रही है । ऐसे में मोबाइल को अपने पास रखना वाकई खतरनाक है .. खासकर शरीर के इन जगहों के सम्पर्क में।

सिर के नीचे

आजकल लोगों की ये आदत बन चुकी है कि रात को सोते समय वे अपना मोबाइल तकिये के नीचे रखकर सोते हैं.. जबकि ये आदत बेहद खतरनाक है.. ऐसा करने से आगे चलकर आपको सिरदर्द और चक्कर आने की समस्याएं हो सकती हैं। दरअसल मोबाइल से निकलने वाला इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन काफी नुकसानदेह होता है। ये मस्तिष्क की कार्य क्षमता को प्रभावित करते है जिसके बेहद घातक परिणाम हो सकते हैं। ऐसे में बेहतर यही है कि सोते वक्त अपना मोबाइल खुद से दूर ही रखा करें।

पीछे के पॉकेट में

कुछ लोग मोबाइल फोन को अपने पीछे की पॉकेट में रखते हैं.. पर आपको बता दे ये तरीका भी सेहत के लिए घातक है। लंबे समय तक ऐसा करने से आपको पेट और पैरों में दर्द की शिकायत हो सकती है.. इसलिए पीछे की पॉकेट में फोन को न रखा करें।

आगे की पॉकेट में

वहीं जो पुरुष पैंट या जींस की आगे वाली जेब में अपना स्मार्टफोन रखते हैं.. उनके लिए ये खबर बेहद जरूरी है क्योंकि एक स्वास्थ्य शोध में ये सामने आ चुका है कि कि लंबे समय तक ऐसा करने वाले पुरुषों में स्पर्म की संख्या और गुणवत्ता दोनों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

शर्ट की जेब में

वहीं अगर आप शर्ट की जेब में अपना मोबाइल रखते हैं तो भी ये आपके लिए घातक हो सकता है । दरअसल स्मार्टफोन से निकलने वाला रेडिएशन आपके हार्ट पर खतरनाक असर डालता है और स्वास्थ्य विशेषज्ञ भी मानते हैं कि मोबाइल के रेडिएशन से दिल कमजोर हो जाता है। ऐसे में पैंट या शर्ट की जेब में मोबाइल रखने से बेहतर है कि अगर आप कहीं जा रहे हैं तो इसे आप किसी बैग में रख सकते हैं। वहीं घर या ऑफिस में हैं तो इसे मोबाइल होल्डर या स्टैंड में रखा करें।

बच्चों के सम्पर्क में

वहीं मोबाइल फोन का इस्तेमाल बच्चों के लिए खतरे से खाली नहीं है.. एक शोध के अनुसार मोबाइल फोन के सम्पर्क में रहने से बच्चों में हाइपरएक्टिविटी और डिफिसिट डिसऑर्डर जैसी समस्याएं हो सकती हैं.. साथ ही ये बच्चों के मानसिक और शारीरिक विकास पर भी नकारात्मक प्रभाव डालता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.