कासगंज पर फिर बोले अखिलेश यादव ‘खतरें में लोकतंत्र, नफरत फैलाना है बीजेपी का इतिहास’

उत्तर प्रदेश: एक तरफ यूपी का कासगंज इलाका आग में दहल रहा है, तो दूसरी तरफ सियासत का चक्र तेजी से चलता दिखाई दे रहा है। सूबे के पूर्व सीएम अखिलेश यादव इस मुद्दे पर जमकर मोर्चा खोलते नजर आ रहे हैं। समाजवादी पार्टी के अलावा बसपा भी इस मुद्दे पर सूबे की योगी सरकार को कठघरें में घरेती हुई नजर आ रही है। आइये जानते हैं कि अखिलेश ने कासगंज को लेकर योगी सरकार पर क्या हमला बोला है?

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने एक बयान में कहा कि कासगंज में  हिंसा की घटना यूपी  के लिए बेहद दुर्भाग्यपूर्ण और चिंताजनक है, लोकतंत्र में ऐसी घटनाएं नहीं होनी चाहिए, ये लोकतंत्र के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है। बता दें कि बीजेपी पर हमला बोलते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश में बीजेपी लोकतंत्र का गल घोंट रही है, जोकि किसी भी नजरिये से सही नहीं हो सकता है। अपनी पार्टी की तरफदारी करते हुए अखिलेश ने कहा कि समाजवादी पार्टी हमेशा सामाजिक सौहार्द बनाये रखने की पक्षधर है। अखिलेश ने आगे जनता से आपसी सद्भाव एवं भाईचारा बनाये रखने की अपील की।

बीजेपी सरकार पर हमला बोलते हुए सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी का नफरत फैलाने का इतिहास रहा है, जिन राज्यों में बीजेपी सत्ता में रही है, वहां सामाजिक बंटवारा करना ही इनका सबसे बड़ा उद्देश्य होता है। अखिलेश यादव यही नहीं रूके उन्होंने आगे कहा कि यूपी में पिछले 10 महीने में जिस तरह बीजेपी की नीतियों से सामाजिक विभाजन बढ़ रहा है, वह सामाजिक व्यवस्था के लिए खतरा है, ऐसे में मैं सीएम योगी से अपील करता हूं कि वो जल्दी से प्रदेश की कानून व्यवस्था को दुरूस्त करें, ताकि प्रदेश का माहौल अच्छा रहे।

याद दिला दें कि गणतंत्र दिवस के मौके पर तिरंगा यात्रा में कासगंज में एक युवक की मौत हो गई, जिसके बाद से ही इलाके का माहौल खराब हो गया है। बता दें कि इलाके में चप्पे पर सुरक्षाबल है, माहौल को शांत कराने की पूरी कोशिश की जा रही है। मामलें में सीएम योगी ने डीजीपी के साथ बैठक की। सीएम योगी ने दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया है। बता दें कि मृतक के परिजन सीएम योगी से उनके बेटे को शहीद का दर्जा देने की मांग के साथ जिस चौक पर इस हिंसा की शुरूआत हुई उस चौक को बेटे के नाम यानि चंदन चौक रखने की भी मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.