लालू की सजा पर मौन केजरीवाल पर बीजेपी का वार, ‘दोस्ती ने ईमानदारी को डूबा दी क्या’

नई दिल्ली: दिल्ली में उपचुनाव की आहट को लेकर सियासी गतिविधियां तेज हो गई हैं। जी हां, केरीवाल के 20 विधायकों को अयोग्य होने पर दिल्ली में चुनाव के बादल मंडरा रहे हैं, ऐसे में बीजेपी ने सियासी गतिविधियां तेज कर दी है। बता देंं कि अभी यह तय नहीं हुआ कि दिल्ली में उपुचनाव कब होंगे, क्योंकि मामला हाईकोर्ट में है। तो आइये जानते हैं कि हमारे इस रिपोर्ट में खास क्या है?

बड़बोले बयान को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहने वाले दिल्ली के सीएम केजरीवाल लालू यादव के मुद्दे पर खामोश है, ऐसे में बीजेपी ने उनके बड़बोलेपन को ही अपना हथियार बना लिया है। जी हां, शनिवार को दिल्ली में बीजेपी ने बड़े बड़े पोस्टर लगाएं, जिसमें लालू और केजरीवाल की दोस्ती को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल पर निशाना साधा गया है। गौरतलब है कि दिल्ली में उपचुनाव लगभग तय माना जा रहा है तो ऐसे में बीजेपी ये सुनहरा मौका हाथ से नहीं जाने देना चाहती।

बता दें कि दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तेजिंदर बग्गा ने पोस्टर जारी करते हुए कहा कि अन्ना आंदोलन के समय अरविंद केजरीवाल लालू यादव पर निशाना साधते थे, लेकिन अब केजरीवाल लालू के जेल जाने पर एक शब्द नहीं बोल रहे हैं,आखिर मांजरा क्या है? केजरीवाल की चुप्पी को अपना हथियार बनाती हुई बीजेपी का लक्ष्य दिल्ली के 20 सीटों को अपने कब्जेंं में करने का है। याद दिला दें कि अन्ना आंदोलन के दौरान केजरीवाल ने अपनी ईमानदार की छवि कायम की थी, उस दौरान केजरीवाल ने लालू प्रसाद यादव समेत कांग्रेस सरकार पर बढ़ चढ़कर आरोप लगाया था, जो दिल्ली में केजरीवाल की सरकार बनने के बाद कहींं गुम हो गई है।

याद दिला दें कि केजरीवाल और लालू प्रसाद एक मंच पर भी दिखाई दिये थे, जिसको लेकर बीजेपी ने केजरीवाल पर बड़े आरोप भी लगाए थे। जी हां, 2015 में लालू के साथ केजरीवाल ने मंच साझा किया था,  इस दौरान केजरीवाल और लालू की गहरी दोस्ती को पूरे देश ने देखा था। फिर क्या था बीजेपी ने केजरीवाल और लालू को लेकर पोस्टर जारी कर दिया था, ये वही पोस्टर था, जो आपको नीचे दिखाई दे रहा है।

बहरहाल, अब देखना ये होगा कि दिल्ली की सियासत में तथाकथित ईमानदार सीएम केजरीवाल की पार्टी उपचुनाव में अपनी सीट बचा पाती है या मौके का फायदा उठाती बीजेपी के हाथ ये 20 के 20 सीट लग जाएंगे?

Leave a Reply

Your email address will not be published.