राहुल की सीट बवाल पर बीजेपी का पलटवार ‘कांग्रेस को याद दिलाया उसका कार्यकाल’

नई दिल्ली: देशभर में 69वां गणतंत्र दिवस मनाया गया, लेकिन इस बार का गणतंत्र राजनीतिक विवादों से अछूता नहीं रह पाया। जी हां, कांग्रेस अध्यक्ष को पीछे बिठाने पर कांग्रेस बौखला गई, जिसके बाद से ही सियासी पारा आसमान पर चढ़ा हुआ है। बता दें कि गणतंत्र दिवस के मौके पर कांग्रेस ने बीजेपी पर ओछी राजनीति करने का आरोप लगाया था, तो अब बीजेपी ने मामलें में पलटवार किया है। आइये जानते हैं कि बीजेपी ने कांग्रेस को क्यों याद दिलाया उसका कार्यकाल?

गणतंत्र दिवस के समारोह में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को छठी सीट पर बिठाया गया, जिसके बाद कांग्रेस ने इसे राहुल का अपमान बताते हुए बीजेपी पर सस्ती राजनीति करने का आरोप लगा दिया, लेकिन बीजेपी इस मामलें में चुप बैठने वाली नहीं थी। जी हां, बीजेपी ने मामलें में पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस कार्यकाल में तो विपक्षियों को विशेष का भी दर्जा नहीं दिया जाता था, ऐसे में कांग्रेस राई का पहाड़ बनाने की कोशिश कर रही है।

बीजेपी ने मामलें पर पलटवार करते हुए कहा कि यूपीए कार्यकाल में तो हमारे अध्यक्ष को विशेष दीर्घा में भी जगह नहीं दी जाती थी। साथ ही बीजेपी प्रवक्ता अनिल बलूनी ने कांग्रेस से पूछा कि यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान गणतंत्र दिवस समारोह में बीजेपी अध्यक्ष के तौर पर राजनाथ और नितिन जी को कहां बैठाया जाता था? बीजेपी प्रवक्ता ने पलटवार करते हुए कहा कि हम लोकतंत्र में विश्वास रखते हैं, कांग्रेस जितना नीचे हम नहीं गिर सकते हैं। याद दिला दें कि राहुल गणतंत्र दिवस पर आयोजित समारोह में छठी पंक्ति में बैठे थे, जिस पर कांग्रेस ने ओछी राजनीति का आरोप लगाया था।

दरअसल, सरकारी सूत्रों के मुताबिक, प्रोटोकॉल नियम के तहत विपक्ष के नेता को सातवीं पंक्ति में सीट दी जाती है, जिसकी वजह से राहुल गांधी को छठी पंक्ति में बैठाया गया था। हालांकि, विवाद इसलिए भी बढ़ा क्योंकि राहुल गांधी को चौथी के बजाय छठी कतार में बैठना पड़ा। बता दें कि पहले राहुल को चौथी पंक्ति में बिठाया गया था, लेकिन बाद में सुरक्षा को मद्देनजर रखते हुए उनसे छठी पंक्ति में बैठने की अपील की गई, जिसकी वजह से कांग्रेस की नाराजगी सातंवें आसमान पर देखने को मिली।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.