विशेष

जज बनते ही लड़की ने कहा तू मेरे काबिल नही, लड़के के दिल पे लगी बात और वो भी बन गया जज उसके बाद?

आजकल के मशीनी युग में भावनाओं की कोई कदर नही है अगर किसी बात की कदर है तो वो है सिर्फ बाहरी दिखावे कि क्योंकि आज के समय जो दिखता है वही बिकता है.. आजकल के समय में वैसे भी लोग हैसियत और रूतबें को देख रिश्ते बनाते हैं यहां दिल का कोई मोल नही है। आज हम आपको ऐसी ही कहानी से रूबरूं कराने जा रहे हैं जहां एक लड़के को लड़की ने उसकी गरीबी और मजबूरी के कारण छोड़ दिया पर फिर वही लड़का इससे सबक लेते हुए अपने दम पर जज बना और जानिए फिर उसके बाद क्या हुआ..

कहते हैं प्यार या तो इंसान की जिंदगी संवार देता है या फिर उसे बर्बाद देता है। इस लड़के साथ तो दोनो ही ही हुआ पहले लड़की ने दिल तोड़ कर बर्बाद कर दिया लेकिन फिर लड़के ने अपने धैर्य और मेहनत के दम पर वो मुकाम पाया जहां पहुंचना लाखों लोगों का सपना होता है। दरअसल ये दास्तां है हाल ही में जारी हुए उत्तर प्रदेश लोकसेवा आयोग के सिविल जज एंट्रेंस एग्जाम के रिजल्ट में 152वीं रैंक हासिल करने वाले अमित वर्मा की.. अमित ने 13 अक्टूबर को जारी हुए PCS-J 2016 के रिजल्ट लिस्ट में अपना स्थान बनाकर अपने सपनो को साकार कर लिया है पर इस खुशी से ज्यादें उन्हे एक बात का दुख आज भी सताता है वो ये कि कभी उनकी बेरोजगारी और गरीबी के कारण एक लड़की ने उनका दिल तोड़ दिया।

PCS-J 2016 के रिजल्ट को देख अमित की आँखे नाम हो गयी और जब उनके दोस्त ने उसकी वजह पूछी तो अमित ने कहा कि “बीच मझधार में छोड़ा था मेरा साथ उस बेवफा ने, वक्त का करिश्मा ऐसा हुआ कि वो डूबे और हम पार हो गये”| अमित वर्मा बताते हैं कि उनके पापा को कैंसर था जिसके चलते उनकी मौत 2011 में ही हो गयी थी उसके बाद उनके भाई बिज़नस कर घर चलाते हैं.. अमित की मां सामान्य गृहणी है ऐसे में भाई जैसे तेसे घर का खर्च चलाते थें। वही अमित अपने पिता के सपने को सकार करने में लगे थे दरअसल अमित के पिता चाहते थें कि उनका बेटा पढ़ लिख कर जज बन जाए। अमित ने 2004में इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में ला में एडमिशन लिया लेकिन मन नहीं लग रहा था उसके बाद सिलीगुड़ी से लॉ किया और बीचयु से LLM । इसके बाद अमित ने 2012 में PCS-J पास भी कर लिया पर उस समय उनका सलेक्शन नही हुआ क्योंकि सिर्फ अमित की रैंक 18वीं थी जबकि सलेक्शन  सिर्फ 14 रैंक तक का ही हुआ था ।

ऐसे में अमित के मनोबल को चोट पहुंची पर इस रिजल्ट से ज्यादा प्यार में मिले धोखे से.. दरअसल उसी दौरान अमित की दोस्ती फेसबुक पर एक लड़की से हुई थी और धीरे धीरे ये दोस्ती प्यार में बदल गयी और बात शादी तक भी पहुच गयी लेकिन वो लड़की अमित की गरीबी और बेरोजगारी को देख कर अक्सर ताने मारती थी और फिर अमित के रिजल्ट के बारे में जानने के बाद तो उसने अमित से दूरी ही बना ली और उसके बाद कुछ दिनों के बाद ही अमित को पता चला की उस लड़की ने शादी कर ली है। इस खबर से अमित को काफी दुख हुआ और वो डिप्रेशन में भी चले गए लेकिन समय के साथ अमित ने अपेन दुख और ज़ज्बातो पर काबू पाया और फिर से अपने लक्ष्य की दिशा मे कदम उठाया ..उस दौरान अमित के पास शादी के कई सारे ऑफर आये पर उसने सभी ठुकरा दिया क्योंकि सामने बस एक उनके पापा का सपना नजर आ रहा था। आखिरकार अमित की मेहनत रंग लाई और उन्होनें 2015 में LLM मैंने बीएचयु में एडमिशन लिया और आज PCS-J 2016 के रिजल्ट में 152 वीं रैंक लाकर अपने पिता के सपनों को साकार कर दिया है।ऐसे में अमित को उस बेवफा लड़की की भी याद आती है जिसकी वजह से उन्होनें अपने आपको इस काबिल बनाया है उसके  धोखे ने अमित की जिंदगी बर्बादी के कगार पर लाई थी पर अमित ने अपनी मेहनत से अपनी बिगड़ी किस्मत संवार ली।

Back to top button