कोर्ट परिसर में हनीप्रीत के साथ दिख रही इस महिला का सच जान कर आप रह जाएंगे दंग

आखिरकार 39 दिनों से फरार चल रही हनीप्रीत गिरफ्तार हो गई है.. पर इसके साथ ही इतने दिन वो कहां रही, किसके साथ रही, कौन उसकी मदद करता रही और आखिर कैसे बचती रही वो पुलिस और जांच एजेंसियों से.. ऐसे कई सवाल खड़े हो गए है जिनका जवाब अब हर कोई जानना चाहता है। साथ ही इन सब सवालों के बीच एक और बात भी जो लोगों के लिए पहेली बन चुकी है ..वो ये कि हनीप्रीत के पेशी के वक्त कोर्ट परिसर में एक और महिला नजर आ रही थी जिसका चेहरा ढ़का हुआ है … मीडिया में उसकी तस्वीरे आने के बाद अब उस महिला के बारे में लोग जानना चाहते है कि आखिर वो महिला थी कौन? तो आइए जानते हैं हनीप्रीत के साथ दिख रही इस महिला का सच।

दरअलस पुलिस ने हनीप्रीत के साथ एक और महिला को गिरफ्तार किया है …हनीप्रीत को मंगलवार को पंजाब के जीरकपुर से मोहाली पुलिस ने गिरफ्तार किया गया था.. जिस वक्त उसे गिरफ्तार किया गया वह एक महिला के साथ इनोवा कार से पटियाला की तरफ जा रही थी। यह कार पंजाब के एक पूर्व मंत्री के सुरक्षा काफिले में चलती है.. हालांकि हरियाणा पुलिस ने इससे इनकार किया है।

फिरोजी कलर के कपड़े पहने कौन है वो महिला?

जीरकपुर पटियाला रोड से मंगलवार को डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की बेटी हनीप्रीत के साथ पंचकूला पुलिस ने गिरफ्तार की गई महिला का नाम सुखदीप कौर है। महिला बठिंडा की रहने वाली है। सुखदीप कौर का पूरा परिवार डेरे का पुराना अनुयायी है। ज्यादा समय सुखदीप कौर का परिवार डेरा सिरसा में ही रहता था।ऐसा बताया जा रहा है कि ये महिला हनीप्रीत के फरार चलने के दौरान शुरू से ही साथ ही थी

सूत्रों की माने तो रोहतक की सुनारिया जेल में राम रहीम को छोड़ने के बाद हनीप्रीत डेरा सिरसा पहुंची और वहां चेयरपर्सन विपासना और आदित्य इंसा के साथ चर्चा की। 26 अगस्त की रात हनीप्रीत डेरे में रह रही बठिंडा की एक महिला के साथ एक गाड़ी से गंगानगर पहुंची। फरार होने के बाद हनीप्रीत डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के पैतृक गांव गुरसर मोडिया पहुंच गई थी। यहां पर हनीप्रीत कई दिनों तक रुकी, लेकिन लगातार हनीप्रीत के गुरसर मोडिया में होने की खबरें आने के बाद 2 सितंबर को हनीप्रीत वहां से फरार हो गई।  25 सिंतबर को हनीप्रीत दिल्ली में देखी गई। वह लाजपत नगर स्थित अपने वकील से मिलने आई थी। वह अपने वकील के माध्यम से दिल्ली हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत चाहती थी।  हनीप्रीत दिल्ली आई और वापस भी चली गई, लेकिन पुलिस उसे पकड़ने में फिर नाकामयाब रही। इसके बाद 2 अक्तूबर की रात कुछ टीवी चैनल हनीप्रीत से मिलने में सफल हो गए। जिसमें हनीप्रीत ने अपने ऊपर लगे कई आरोपों के जवाब दिए और बेबुनियाद बताया।

कोर्च में पेशी के लिए किया गया दोनो के डमी का प्रयोग

सुरक्षा वजहों से पुलिस ने कोर्ट ले जाने के लिए हनीप्रीत की डमी बनाई थी। दो महिला पुलिसकर्मियों को सूट पहनाकर एक गाड़ी में बिठाया गया और कोर्ट की ओर रवाना किया गया। लेकिन यह ड्रामा तब फ्लॉप हो गया जब डमी हनीप्रीत और सुखदीप देर से कोर्ट पहुंचीं  जबकि असली हनीप्रीत और सुखदीप को लेकर निकली पुलिस टीम पहले पहुंच गई। डमी हनीप्रीत दोपहर 2:35 मिनट पर कोर्ट में देखी गई, जबकि असली हनीप्रीत 5 मिनट पहले ही कोर्ट कैम्पस में आ चुकी थी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.