Exit Polls: बदल सकता है अमेठी-रायबरेली का इतिहास, राहुल या सोनिया को गंवानी पड़ सकती है सीट कांग्रेस के गढ़ अमेठी या रायबरेली में बीजेपी मार सकती है सेंध।

वोटिंग के ठीक बाद देशभर में एग्जिट पोल की चर्चा हो रही है। एग्जिट पोल में मोदी की अगुवाई वाली सरकार एक बार फिर बनती हुई नजर आ रही है। तमाम एग्जिट पोल में एनडीए को 300 से ज्यादा सीटें दी जा रही है, तो वहीं यूपीए की सीट पहले की तुलना में बढ़ती हुई नजर आ रही है, लेकिन कांग्रेस की टेंशन खत्म नहीं हो रही है। भले ही कांग्रेस पिछले चुनावों की अपेक्षा इस चुनाव में ज्यादा सीट लाती हुई दिख रही है, लेकिन उसके मजबूत किले में बीजेपी सेंध मारती हुई नजर आ रही है। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए क्या खास है?

यूपी में बीजेपी को 62 से 68 सीटें दी जा रही है, जिससे कांग्रेस को बड़ा झटका लगता हुआ नजर आ रहा है। दरअसल, कांग्रेस को इस बार यूपी में सिर्फ 1 सीट मिलती हुई नजर आ रही है। ऐसे में शीर्ष पार्टी नेतृत्व की टेंशन बढ़ना लाजमी है। याद दिला दें कि साल 2014 में उत्तर प्रदेश से कांग्रेस सिर्फ दो सीट अमेठी और रायबरेली ही जीत पाई थी, जिस पर राहुल गांधी और सोनिया गांधी चुनाव लड़ रहे थे, लेकिन इस बार का एग्जिट पोल तो कुछ और ही इशारा कर रहा है।

यूपी में एक सीट पर सिमट सकती है कांग्रेस

एग्जिट पोल की माने तो उत्तर प्रदेश की 80 सीटों में से कांग्रेस को सिर्फ 1 ही सीट मिलती हुई नजर आ रही है, जोकि खतरे की घंटी है। मतलब साफ है कि हर बार की तरह इस बार भी राहुल गांधी और सोनिया गांधी उत्तर प्रदेश ही चुनाव लड़ रहे हैं। ऐसे में अगर सिर्फ एक ही सीट मिल रही है, तो राहुल गांधी या सोनिया गांधी में से किसी एक को अपनी सीट हारनी पड़ सकती है। अब ये सीट अमेठी की होगी या फिर रायबरेली की, ये तो वक्त ही बताएगा, लेकिन एग्जिट पोल ने कांग्रेस के नेतृत्व पर एक बार फिर से सवाल खड़ा कर दिया।

खतरे में है राहुल की अमेठी की सीट

पिछले बार मोदी लहर होने के बावजूद राहुल अपने गढ़ अमेठी को बचाने में सफल रहे थे, लेकिन जीत का मार्जिन बहुत ही कम था। ऐसे में माना जा रहा है कि इस बार राहुल गांधी को अमेठी से हार का सामना करना पड़ सकता है। याद दिला दें कि 2014 में राहुल अमेठी से सिर्फ 1 लाख वोटों से ही जीते थे, जिसकी वजह से इस बार माना जा रहा है कि अमेठी राहुल के हाथ से निकलती हुई नजर आ रही है, क्योंकि स्मृति ईरानी कांटे की टक्कर देती हुई नजर आ रही हैं।

रायबरेली पर भी मंडरा रहा है खतरा

उत्तर प्रदेश की रायबरेली की सीट से सोनिया गांधी मैदान में है। सोनिया गांधी का यह आखिरी चुनाव है, लेकिन एग्जिट पोल की माने तो कांग्रेस दो में से एक सीट हारने वाली है, तो वह सीट सोनिया गांधी की भी हो सकती है, क्योंकि सोनिया गांधी से रायबरेली की जनता काफी ज्यादा नाखुश है, तो वहीं मोदी का मैजिक भी सोनिया पर भारी पड़ता हुआ नजर आ रहा है।