WhatsApp ने उठाया सख्त कदम, इस वजह से बैन किए 20 लाख से अधिक अकाउंट

WhatsApp (व्हाट्सएप) ने सख्त कदम उठाते हुए भारत में चल रहे 20 लाख से ज्यादा व्हाट्सएप अकाउंट्स को बंद कर दिया है. साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले व्हाट्सएप की और से उठाया गया ये कदम काफी अहम है. क्योंकि व्हाट्सएप  का दावा है कि जो व्हाट्सएप  के अकाउंट बंद किए हैं वो सब फेक न्यूज फैलाया करते थे.

व्हाट्सएप  के मुताबिक उन्होंने बैन किए गए सभी अकाउंट की पहचान एक लर्निंग सिस्टम की मदद से की है और लर्निंग सिस्टम मशीन के जरिए जो अकाउंट गलत न्यूज फैलाने के घेरे में आए थे उन सबको अब बंद कर दिया गया है.

किस तरह से मशीन की मदद से की पहचान-

लर्निंग सिस्टम के तहत उन व्हाट्सएप अकाउंट को बैन करने के लिए चुना गया था जो कि निम्नलिखित चीजों के अंतर्गत आते थे.

  • जो डिवाइस एक देश में पंजीकृत होता है, लेकिन दूसरे देश के नेटवर्क का उपयोग व्हाट्सएप अकाउंट के जरिए एक साथ कई मैसेज भेजने के लिए करता है.
  • वो व्हाट्सएप अकाउंट जो कि मैसेज भेजते थे मगर व्हाट्सएप के जरिए वार्तालाप (one-to-one व्हाट्सएप  conversation) नहीं किया करती थे. साथ में ही जो एक साथ कई सारे संदेश भेजा करते  थे.
  • जिन व्हाट्सएप अकाउंट में किसी भी तरह के टाइपिंग इंडिकेटर की अनुपस्थिति होती थी. यानी कोई भी मैसेज टाइप नहीं किया जाता था.
  • जिन व्हाट्सएप अकाउंट के बनते ही उनसे एक साथ कई सारे मैसेज भेजे जाना शुरू हो जाते थे.

क्यों बंद किए गए ये अकाउंट

इन 20 लाख अकाउंट को बंद करने का मकसद केवल गलत कंटेंट शेयर किये जाने से रोकना है. गौरतलब है कि भारत में व्हाट्सएप  का गलत इस्तेमाल कर लोगों के बीच में गलत खबरें काफी फैलाई जा रही थी और लिंक्स भेजकर लोगों की निजी जानकारी इकट्ठा की जा रही थी.

राजनीतिक दलों को पड़ेगा असर

भारत में करीब 20 करोड़ लोग व्हाट्सएप  का इस्तेमाल करते हैं और साल 2018 में राजस्थान और मध्य प्रदेश में हुए चुनाव के वक्त राजनीतिक दलों द्वारा इसका खूब इस्तेमाल किया गया था. व्हाट्सएप  के मुताबिक इस एप में अकाउंट बनाकर एक साथ अधिक मैसेज भेजकर राजनीतिक पार्टियों को फायदा होता था और अब व्हाट्सएप  के प्लेटफॉर्म के गलत इस्तेमाल को रोकने के लिए ये अकाउंट बैन किए गए हैं. इस कंपनी के मुताबिक फेक न्यूज़ फैलाने को लेकर इस कंपनी ने पहले भी चेतावनी दी थी. मगर फिर भी लोगों ने व्हाट्सएप  के जरिए फेक न्यूज फैलाना बंद नहीं किया था.

गौरतलब है कि हमारे देश में इस एप को खूब इस्तेमाल किया जाता है और भारत में करोड़ों लोग इस एप से जुड़े हुए हैं. वहीं व्हाट्सएप  के जरिए फैलाई जाने वाली फेक न्यूज के चलते इस एप की काफी समय से आलोचना हो रही थी. जिसके बाद इस कंपनी ने फेक न्यूज को पूरी तरह से बंद करने के लिए, गलत अकाउंट को बंद करने का काम शुरू किया है. इतना ही नहीं इस कंपनी की और से फेक न्यूज के खिलाफ लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए टी.वी पर विज्ञापन भी दिए जा रहे हैं. जिसमें बताया जा रहा है कि फेक न्यूज फैलाने वाले  ग्रुप पर ध्यान ना दिया जाए.