रणबीर कपूर से ब्रेकअप करके खुश हैं कैटरीना कैफ, बताई वजह

न्यूज़ट्रेंड एंटरटेनमेंट  डेस्क: बॉलीवुड के चॉकलेटी ब्याए रणबीर कपूर ना जानें कितनी हसीनाओं के दिल में राज कर चुके है, यहां तक की सिर्फ बॉलीवुड ऐक्ट्रेसेस ही नहीं पाकिस्तानी कलाकारों के दिल में भी रणबीर ने खूब हलचल मचाई है, वैसे तो रणबीर का अपने अफेयर्स को लेकर खबरों में बने रहना आम बात है, लेकिन दीपिका से ब्रेकप के बाद रणवीर के हर अफेयर पर लोग आंख गड़ा के बैठे रहते थे, क्योंकि जिस तरह से दोनों का रिलेशन शुरू हुआ था और प्यार के जिस मुकाम पर पहुंचा था उसे देखकर यही लगता था कि ये दोनों कभी जुदा नहीं होंगे और दीपिका द्वारा बनवाए गए रणबीर कपूर के टैटू ने इस बात पर मोहर लगा दी थी।

लेकिन एक समय ऐसा आया कि दोनों का ब्रेकअप हो गया और दीपिका ने रणबीर का नाम का टैटू भी हटवा दिया। बता दें की दीपिका के बाद जिसके साथ रणबीर के रिलेशनशिप की खबरें आई कैटरीना कैफ के साथ लेकिन दोनों का ये रिलेशन ज्यादा लंबा चला नहीं और अक समय बाद इनका रिश्ता भी टूट गया, बता दें कि दीपिका और ऱणबीर ब्रेकअप के बाद काफी अच्छे दोस्त बन गए थे लेकिन इस बात से कैटरीना को खासा दिक्कत होती थी। लेकिन दीपिकारणवीर के रिसेप्शन पर पहुंचकर कैटरीना एक बार फिर से सुर्खियों में गई। क्योंकीद दीपिका से उनकी कोल्ड वार के बारे में हर कई जानता था।

लेकिन इन सबके अलावा भी कैटरीना एक बार फिर से चर्चा में आई हुई हैं और इस बार भी वजह है रणबीर कपूर, दरअसल हाल ही में कैटरीना ने वोग मैगजीन को एक इंटरव्यू दिया, जिसमें उन्होंने अपने  और रणबीर के ब्रेकअप के बारे में बताया। कैटरीना ने कहा कि, रणबीर कपूर के साथ ब्रेक-अप करने के बाद वो जिंदगी को ज्याद अच्छी तरह से समझ पा रही हैं।

उन्होंने बताया कि ‘ब्रेक-अप के बाद मेरी जिंदगी पूरी तरह से बदल गई और अब मेरा पूरा फोकस केवल मुझ पर ही है। जब आपका पूरा फोकस केवल आप पर होता है, तब आपको अपने बारे में वो-वो चीजें जानने को मिलती हैं जो आपको अपने बारे में पहले कभी नहीं पता थीं। इसके बाद आपको पता चलता है कि आप असल में कैसे इंसान हैं ?’

‘अब मुझे लगता है कि वो ब्रेकअप मेरी जिंदगी की तरफ से मेरे लिए सबसे अच्छी सौगात थी क्योंकि इसके बाद मुझे पता चला कि मैं अपनी जिंदगी को किस दिशा में लेकर जाना चाहती हूं। मैं हर एक चीज को नए नजरिए से देखने लगी हूं।’

कैट ने यह भी बताया कि वो अपने किसी भी फैसले का दुख नहीं मनाती हैं क्योंकि किसी काम के हो जाने के बाद उसका दुख मनाने का कोई मतलब नहीं है। आपने जिस समय वो फैसला किया था तब आपके लिए वो सबसे सही लगा था, इसीलिए आपने उसे लिया। सालों के बाद उसका शिकवा मनाने का क्या मतलब है ?’