बायोग्राफी

सुधा शिवपुरी- 8 साल की उम्र से ही शुरू किया था काम, ‘बा’ के रोल में मिली थी पहचान

Sudha Shivpuri Biography In Hindi

एकता कपूर का सीरियल क्योंकि सास भी कभी बहू थी में बा का किरदार निभाने वाली एक्ट्रेस सुधा शिवपुरी को इस रोल में लोगों ने इतना पसंद किया था कि वो टीवी जगत में बा के नाम से फेमस हो गई थी। यहां तक की दर्शक भी उनको उनके रियल नाम से नहीं बल्कि बा के नाम से ही जानते थे। बता दें कि सुधा ने लंबे समय तक टीवी जगत और फिल्मों में काम किया है। बता दें कि 14 जुलाई को सुधा शिवपुरी का जन्मदिन हैं। आज हम आपको उनके जन्मदिन के मौके पर उनकी लाइफ से जुड़े कुछ ऐसे फैक्टस बताएंगे जिनके बारे में शायद ही आप जानते हो। – Sudha Shivpuri

बता दें कि सुधा की सादी बॉलीवुड एक्टर ओम शिवपुरी से हुई थी। बता दें सुधा भले ही अब हमारे बीच में नहीं हैं लेकिन उनको आज भी उनके फैंस बा के किरदार में याद करते हैं। सुधा शिवपुरी ने अपने करियर की शुरूआत तब से कर दी थी जब वो क्लास 8 वीं में पढ़ती थी। सुधा ने बचपन में ही अपने पिता को खो दिया था, उनकी मां की तबीयत भी खराब रहती थी जिस वजह से घर की बड़ी होने के चलते घर की जिम्मेदारी सुधा के कंधो पर आ गई। छोटी सी उम्र में ही सुधा ने अपने घर की सारी जिम्मेदारी उठाई।

साल 1968 में सुधा शिवपुरी ने मशहूर एक्टर ओम शिवपुरी से शादी की। लेकिन शादी के बाद भी सुधा ने काम करना नहीं छोड़ा और दिल्ली में थियेटर में काम करती रहीं। इसके बाद सुधा ने अपनी थियेटर कंपनी खोली जिसके चसते उन्होंने बहुत से नाटकों का निर्माण भी किया। इसमें ‘आधे अधूरे’, ‘तुगलक’ और विजय तेंदुलकर का ‘खामोश: अदालत जारी है’ शामिल है। बता दें कि इन सभी नाटकों में सुधा लीड रोल में नजर आई। उनके सभी नाटकों को ओम शिवपुरी ने ही डायरेक्ट किया।

जिसके बाद साल 1974 में सुधा शिवपुरी मुंबई शिफ्ट हो गईं। दरअसल ओम शिवपुरी को फिल्मों के ऑफर मिलने लगे थे जिस वजह से उन दोनों को मुंबई शिफ्ट होना पड़ा। जिसके बाद साल 1977 में सुधा ने बासु चैटर्जी की फिल्म ‘स्वामी’ से बॉलीवुड में डेब्यू किया। इसके अलावा सुधा ने फिल्म ‘इंसाफ का तराजू’, ‘हमारी बहू अलका’, ‘सावन को आने दो,’ ‘सुन मेरी लैला’, ‘बर्निंग ट्रेन’, ‘विधाता’, ‘माया मेमसाब’ और ‘पिंजर’ जैसी फिल्मों में काम किया।

जिसके बाद सुधा ने टीवी की ओर रुख किया। सुधा ने कई टेलीविजन सीरियल में काम किया। इन सीरियल्स में ‘आ बैल मुझे मार’, ‘शीशे के घर’, ‘वक्त का दरिया’, ‘दामन’, ‘संतोषी मां’, ‘ये घर’, ‘कसम से’ और ‘किस देश में है मेरा दिल’ है। इन सभी सीरियल में से सुधा शिवपुरी का ‘बा’ का रोल बहुत मशहूर हुआ था। इस सीरियल में सुधा शिवपुरी ने स्मृति ईरानी की दादी सास का रोल निभाया था। इस रोल के बाद ही सुधा को बा के रूप में एक नई पहचान मिली थी।

Back to top button
?>