नहीं देखा होगा ऐसा बॉस जो दिवाली पर बोनस में कर्मचारियों को दे देता है मर्सिडीज कार

दिवाली के खास मौके पर हर किसी को बोनस पाने की इच्छा रहती हैं, ऐसे में यदि किसी कंपनी के मालिक अपने कर्मचारियों को कार और एफडी का बोनस दे तो फिर क्या पुछने की बात हैं। जी हाँ हर साल की तरह दिवाली पर अपने कर्मचारियों को स्पेशल गिफ्ट देकर चर्चा में रहने वाले मशहूर हीरा कारोबारी सावजी ढोलकिया इस दिवाली फिर से चर्चा में हैं। इस दिवाली हरि कृष्णा एक्सपोर्ट्स के चेयरमैन सावजी ढोलकिया(Surat diamond king Savji dholakia ) ने 600 कर्मचारियों को कार और 900 कर्मचारियों को एफडी बोनस के रूप में देकर फिर से चर्चा में आ गए हैं।

डायमंड किंग के नाम से हैं मशहूर सावजी ढोलकिया

बता दें कि डायमंड किंग सावजी ढोलकिया (Surat diamond king Savji dholakia) ने अपने 1500 कर्मचारियों को दिवाली का बोनस दिया हैं। यह कार्यक्रम दिल्ली में आयोजित किया गया था और ढोलकिया के चार कर्मचारियों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार की चाबी सौंपी, इन कर्मचारियों में एक 22 साल की महिला दिव्यांग कर्मचारी भी मौजूद थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बाकी कर्मचारियों को संबोधित किया, इस बार ढोलकिया की कंपनी ने 1500 कर्मचारियों का चयन लॉयल्टी प्रोग्राम के तहत किया हैं। 600 कर्मचारियों ने गिफ्ट के रूप में कार पर सहमति जताई, जबकि 900 कर्मचारियों ने बैंक एफडी की मांग की थी।

सावजी ढोलकिया  की कंपनी ने इस बार बोनस पर करीब 50 करोड़ रुपये का खर्च वहन किया हैं। बता दें कि 2011 में कंपनी ने लॉयल्टी प्रोग्राम शुरू किया था इसी के तहत यह पुरस्कार कर्मचारियों को दिया जाता हैं और 2011 में कंपनी ने अपने कर्मचारियों को 500 फ्लैट, 525 हीरे के जेवरात भी दिए थे। साल 2014 में 200 कर्मचारियों को दिवाली बोनस के रूप में फ्लैट मिला था, बता दें ढोलकिया की कंपनी का 6000 करोड़ रुपये का टर्नओवर है।

दिवाली पर दिल खोल कर देते हैं बोनस में तोहफे सावजी ढोलकिया

इसके पहले ढोलकिया दिवाली के मौके पर अपने कर्मचारियों को कार और मकान उपहार स्वरूप देकर चर्चा में रह चुके हैं। अभी कुछ दिन पहले ही ढोलकिया ने अपने कंपनी में 25 साल पूरा करने वाले अपने तीन मैनेजरो को मर्सिडीज बेंज भी दे चुके हैं। इस बारे में सावजी से पुछने पर वो कहते हैं कि ये सब कर्मचारियों के मेहनत का फल हैं क्योंकि कोई कंपनी तभी सफल होती हैं जब उसके कर्मचारियो ईमानदारी और लगन से काम करे और हमारा भी फर्ज अपने कर्मचारियों के प्रति बनता हैं ताकि हमारे कंपनी का हर कर्मचारी खुश रहे। सावजी भाई ढोलकिया ने अपने चाचा से पैसे उधार लेकर कारोबार शुरू किया था और आज वो हरि कृष्णा एक्सपोर्ट के मालिक बन गए हैं।

सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि 71 देशों में हीरे का कारोबार ढोलकिया का फैला हुआ हैं अर्थात ढोलकिया ने अपने कारोबार को इस मुकाम तक पहुँचने के लिए जीतोड़ मेहनत की हैं तभी तो आज वो इस मुकाम पर हैं क्योंकि अकेले बिजनेस खड़ा करना और उसे इस मुकाम तक पहुंचाना हर किसी के बस की बात नहीं होती हैं। ऐसे में ढोलकिया का इस मुकाम तक पहुँचना और अपने कर्मचारियों के हितों का ध्यान रखना उनके ज़िंदादिली का सबूत हैं क्योंकि आज के समय में हर कोई अपने कर्मचारियों को इस तरह के उपहार नहीं देता हैं।