कसूरी मेथी के फायदे और नुक्सान

कसूरी मेथी के फायदे: हरी सब्जियों में से मेथी एक मात्र ऐसी सब्जी है जिसका इस्तेमाल रसोई घर में खानों का स्वाद बढाने से लेकर सेहत को दरुस्त रखने के लिए किया जाता है. मेथी सर्दी के मौसम में आती है. हरी मेथी के पत्तों को सूखाने के बाद उसे कसूरी मेथी के नाम से जाना जाता है. कसूरी मेथी आम तौर पर एशिया के मेडेटेरियन क्षेत्र में पाया जाता है. अंग्रेजी में कसूरी मेथी को  फेनूग्रीक सीड के नाम से जाना जाता है. मेथी में कईं तरह के जरूरी तत्व मौजूद होते हैं जिसके कारण इसको पौषक पूरक भी कहा जाता है. इस लेख में हम आपको कसूरी मेथी के फायदे और कसूरी मेथी के नुक्सान बताने जा रहे हैं.

दरअसल मेथी का इस्तेमाल सदियों से जड़ी बूटी की तरह किया जाता रहा है. वहीँ बात अगर कसूरी मेथी के करें तो मान शरीर को इसके अद्भुत लाभ हैं. कसूरी मेथी के सेवन करने से कईं तरह के रोगों से मुक्ति पाई जा सकती है. कसूरी मेथी के फायदे और कसूरी मेथी के नुक्सान निम्नलिखित हैं-

कसूरी मेथी के फायदे (benefits of kasuri methi)

मधुमेह:

मधुमेह यानि डायबिटीज़ एक ऐसी बिमारी हैं जिससे आज की युवा पीढ़ी सबसे अधिक प्रभावित हो रही है. लेकिन आपको बता दें कि कसूरी मेथी के सेवन से मधुमेह को काबू में रखा जा सकता है. यह मेथी ग्लूकोज़ चयापचय को नियंत्रित करती है जिसके कारण इसे मधुमेह विरोधी दवा भी कहा जाता है.

कोलेस्ट्रोल:

कसूरी मेथी रक्त चाप को सही रखती है और कोलेस्ट्रोल को काबू में रखती है. कसूरी मेथी से धमनियों के सख्त होने को रोका जा सकता है. इसके लिए रात में मेथी के कुछ पत्तों को पानी में भिगो कर रख दें और सुबह पानी को छान कर इसे पी लें.

आंत:

अपच और लीवर खराब जैसे रोगों से बचने के लिए कसूरी मेथी सबसे अधिक फायदेमंद मानी जाती है. इसके लिए कसूरी मेथी के नियमित रूप से सेवन करने से गैस्ट्रिक और आँतों की समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा पाया जा सकता है. कसूरी मेथी को आप माउथ फ्रेशनर के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

हृदय:

हृदय रोग जैसे कि हार्ट अटैक के खतरे को कम करने के लिए कसूरी मेथी सबसे लाभकारी मानी जाती है. यह शरीर में नए प्लेटलेट्स का निर्माण करती है और दिल में अचानक से खून के थक्के की संभावना को रोकती है.

पाचन तंत्र:

इसमें रिच फाइबर और एंटी ऑक्सीडेंट पाया जाता है. ये एंटी ऑक्सीडेंट हानिकारक चीज़ों को शरीर से बाहर निकालने में और पाचनतंत्र को स्वस्थ बनाये रखने में सहायक है. कब्ज़ के रोगी यदि सुबह सुबह उठकर मेथी का शरबत ग्रहण करें, तो कब्ज़ ठीक हो सकता है.

कसूरी मेथी के नुक्सान (side effects of kasuri methi)

  • बहुत से लोगों को मेथी के इस्तेमाल से एलर्जी हो सकती है. ऐसे में यदि आप कसूरी मेथी का सेवन करना चाहते हैं तो इसके लिए आप उसके पेस्ट को त्वचा पर लगा कर एक बार जरुर जांच लें. त्वचा पर लगाने से यदि आपको जलन या एलर्जी महसूस हो तो इसका सेवन भूल से भी ना करें.
  • डॉ. के अनुसार कसूरी मेथी में ऐसे कईं पौषक तत्व मौजूद हैं जो आम इंसान के लिए सहायक साबित हो सकते हैं. लेकिन गर्भवती स्त्रीयों को कसूरी मेथी के अधिक सेवन से बचना चाहिए. दरअसल, कसूरी मेथी के अधिक सेवन से प्रेग्नेंट महिला का गर्भपात हो सकता है. इसलिए इसके सेवन से पहले अपने डॉ. से एक बार जरुर सलाह कर लें.
  • यदि आप किसी बिमारी से लंबे समय से पीड़ित हैं और उसकी दवाइयां खा रहे हैं तो कसूरी मेथी का सेवन करने से पहले अपने डॉ. से एक बार जरुर पूछ लें क्यूंकि कईं बार दूसरी दवाइयों के साथ इस मेथी का सेवन करना आपकी सेहत के लिए हानिकारक साबित हो सकता है.