उत्तराखंड इंवेस्टर्स समिट 2018 : जियो की पहल से अब देवभूमि बनेगी “डिजिटल देवभूमि”

रविवार को देहरादून में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तराखंड में पहले इन्‍वेस्‍टर समिट का उद्घाटन करते हुए कहा कि निवेशकों के लिए देश में कई सारी ढांचागत सुविधाओं को आज और भी बेहतर बनाया जा रहा है जिससे कोई भी निवेशक निवेश करने में खुद को असहज ना महसूस करें और इसके लिए सरकार ने ढेर सारे कदम उठा रही हैं। इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी बताया कि आज हमारे देश में टैक्स सिस्टम काफी बेहतर हो गया है और भविष्य में यह भी कोशिश की जा रही है कि यह और भी ज्यादा आसान और पारदर्शी बना रहे ताकि किसी भी निवेशक को अपना उद्योग करने में और भी आसानी हो सके।

बताते चलें की इस समिट में देश भर के तमाम उद्योगपति हिस्सा लिए थे और सबसे अच्छी बात ये रही की समिट के दौरान रिलायंस इंडस्‍ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्‍टर मुकेश अंबानी ने उत्तराखंड को सौगात देते हुए बताया की जियो के जरिए वो देवभूमि को डिजिटल देवभूमि बनाएँगे। बता दें की जियो उत्तराखंड राज्‍य के 2185 सरकारी स्‍कूल और 200 से भी ज्‍यादा सरकारी कॉलेजों को अगले दो साल में जोड़ने की योजना बना रहा है, वहीं दूसरी तरफ यह भी बताया जा रहा है की यहाँ पर 100 से ज्‍यादा रिलायंस रिटेल स्‍टोर्स को उचित दामों पर खोलने और इनकी संख्‍या में और भी इजाफा करने का विचार बना रहा है।

पहली इन्‍वेस्‍टर समिट का आयोजन कर रही उत्तराखंड सरकार को मुकेश अंबानी ने बधाई देते हुए कहा कि उत्‍तराखंड को डिजिटल बनाने के लिए जियो पूरी तरह प्रतिबद्ध है और इसे ना सिर्फ डिजिटल बनाना है बल्कि इस राज्‍य के हर एक नागरिक को सबसे बेहतर क्‍वालिटी की डिजिटल कनेक्टिविटी और सेवाएं मिल सकें। मुकेश अंबानी ने यह भी बताया की जियो ना सिर्फ डिजिटल सेवाएं प्रदान करेगा बल्कि यहाँ के पर्यावरण को भी सुरक्षित रखने तथा पर्यटन क्षेत्र को भी बढ़ावा देने के वाली इंडस्‍ट्रीज और बिजनेस को बढ़ावा देगा। आपकी जानकारी के लिए बताते चलें की रिलायंस पिछले कुछ ही वर्षों में तकरीबन 4 हजार करोड़ रुपये का निवेश कर राज्‍य के सबसे ज्‍यादा निवेश करने वालों में से है और इसके साथ ही साथ जियो ने यहाँ भरी संख्‍या में युवाओं को रोजगार भी दिया है।

रिलायंस के मालिक मुकेश अंबानी ने बताया कि मुंबई में वे उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मिले और इस दौरान उत्‍तराखंड को लीडिंग स्‍टेट बनाने के उनके विजन वो काफी ज्यादा प्रभावित हुए थे। चूंकि उत्‍तराखंड प्राकृतिक संपत्ति से पूरी तरह से भरा है और तो और वहाँ के लोग भी काफी मेहनती हैं जो लगातार अपने प्रदेश को आगे बढ़ाने में प्रयासरत हैं। बता दें की प्रधानमंत्री ने समिट के दौरान बताया कि उत्तराखंड में अब किसी भी निवेशक को प्रस्ताव की मंजूरी के लिए जगह जगह दफतरों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे, उनकी सुविधा के लिए ई-परिवेश नाम का पोर्टल काम कर रहा है जिससे प्रक्रिया आसान होने के साथ-साथ तेज भी होगी और सभी को अपने कार्य को आगे बढ़ाने में आसानी भी होगी।