पर्याप्त ही नहीं बल्कि सही तरीके से पानी पीने से होता है लाभ, जानिए क्या है सही तरीका

पानी के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। पानी जीवन के लिए महत्तवपूर्ण पदार्थ है। ये स्वस्थ शरीर के लिए महत्वपूर्ण तरल पदार्थ है। इसके कई तरह के शारीरिक लाभ भी हैं।  भरपूर मात्रा में पानी के सेवन से कई तरह के बीमारियों से बचे रह सकते हैं। पानी पीना सेहत के लिए बहुत ही लाभदायक है। पानी को हर बीमारी का इलाज भी बताया जाता है। इसका भरपूर सेवन आपको कई तरह के बीमारियों से बचा सकता है। सामान्य स्वस्थ इंसान को रोजाना 8 से 10 गिलास पानी पीने की सलाह दी जाती है।

लेकिन क्या आपको पता है पानी पीते समय हमें कभी खड़ा नहीं रहना चाहिए। कई लोगों की आदत होती है खड़े होकर पानी पीने की, इससे कई तरह के स्वास्थ्य नुकसान हो सकते हैं। इसलिए पर्याप्त मात्रा मेंं पानी पीने के साथ ही पानी पीने के कुछ नियमों का भी पालन करना चाहिए। तो आज हम आपको बताएंगे कि पानी खड़े होकर क्यों नहीं पीना चाहिए और इसके क्या क्या दुष्प्रभाव होते हैँ। इसके अलावा पानी पीने के सही नियमों के बारे में भी बताएंगे।

खड़े होकर पानी पीने से होते हैं कई तरह के शारीरिक दुष्प्रभाव-

  • पाचन तंत्र के लिए नुकसानदेह- जब हम खड़े होकर पानी पीते हैं तो पानी सीधे हमारे पेट के निचले हिस्से पर गिरता है। इससे गुर्दों को चोट पहुँच सकती है। साथ ही पाचन प्रक्रिया भी प्रभावित होती है।
  • घुटने में दर्द- खड़े होकर पानी पीने का ये सबसे बड़ा नुकसान है। गलत तरीके से पानी पीने से घुटने में दर्द की समस्या आती है। इसका कारण ये होता है कि जब आप खड़े होकर पानी पीते हैं तो जोड़ों में मौजूद तरल पदार्थों का संतुलन बिगड़ जाता है। और जोड़ो में मौजूद तरल पदार्थों का संचयन अधिक मात्रा में होने लगता है
  • प्यास नहीं मिटती- कई लोगों की आदत होती है कि वे खड़े होकर तेज धार के साथ पानी पीना पसंद करते हैं। इस तरह से पानी पीते हैं तो आपकी प्यास नहीं बुझ पाती है। और पानी पीने के बाद भी आपको प्यास लगा रहेगा। इसलिए बेहतर है कि बैठ कर पानी पिएं और हमेशा छोटे छोटे घूंट लेकर पानी पिएं।
  • गाठिया की समस्या- खड़े होकर पानी पीने से शरीर के जोड़ों में मौजूद तरल पदार्थों का संतुलन बिगड़ जाता है। इस वजह से जोड़ों मे दर्द और गाठिया की समस्या भी होने लगती है।
  • अपच की समस्या- पानी को भी पचने की आवश्यकता होती है। खड़े होकर पानी पीने से शरीर के अंग रिलैक्स नहीं रहते हैं। इस वजह से खाना के साथ पानी भी नहीं पच पाता है। जबकि अगर आप बैठ कर छोटे छोटे घूंट लेकर पानी पिएंगे तो पाचन तंत्र, मसल्स और नर्व सिस्टम अधिक तेजी से तरल को पचाने में मदद करते हैं।
  • दिल की बीमारी-शरीर में अगर खाना ठीक से पच नहीं पाता है तो कोलेस्ट्राल लेवल बढ़ने लगता है। इससे आगे चलकर दिल की बीमारी के खतरे भी रहते हैं।

पानी पीने का सही तरीका-

  • हमेशा बैठकर पानी पीना चाहिए।

  • बैठकर छोटे छोटे घूंटों के साथ पानी पीना लाभदायक है।
  • एक ही सांस में तेज धारा के साथ पानी न पिएं।
  • अत्यधिक ठंडे पानी का सेवन भी शरीर के लिए नुकसानदे है।