नई दिल्ली – एक आम भारतीय नागरिक ने पीएम मोदी को लिखे आपने खत में ऐसी भविष्यवाणी कर दी है जिससे पाकिस्तान की नींद उड़ गई है। भारत के रहने वाले बाबू कलायिल नाम के इस व्यक्ति ने पीएम मोदी को खत लिखकर कहा है कि दिसंबर में हिंद महासागर में भूकंप और सूनामी आएगी। इस ख़त के सामने आने के बाद पाकिस्तान के होश उड़ गए हैं। Earthquake prediction in Pakistan.

क्या है पीएम मोदी को लिखे ख़त में?

दरअसल, इस व्यक्ति ने दावा किया है कि उसने अपनी छठी इंद्री से इस बात का पता चला है कि दिसंबर में हिंद महासागर में भूकंप और सूनामी आएगी। अपनी इसी बात को उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखकर बताया है। हालांकि, भारत में इस शख्स की भविष्यवाणी का ज़्यादा असर नहीं पड़ा है, इससे पाकिस्तान में काफी अफरा तफरी मच गई है। पीएम मोदी के नाम लिखे अपने ख़त में शख्स ने दावा किया गया है कि उसे दिसंबर में हिंद महासागर में भूकंप और सूनामी आने की  बात का पता अपनी अद्भुत छठी इंद्री से पता चली है। शख्स के मुताबिक, इस साल के खत्म होने से पहले हिंद महासागर में एक भूकंप आएगा, जिससे पाकिस्तान समेत 7 देश सूनामी की चपेट में आ जाएंगे।

आईएसआई के भी उड़े होश

इस शख्स की बात से पाकिस्तान में सरकारी संस्थान इस साल दिसंबर में संभावित भूकंप और सूनामी के प्रभाव से बचने की तैयारियों में जुट गया है।  हालांकि, इस शख्स ने कहीं भी ये नहीं कहा है कि इस भविष्यवाणी में कोई वैज्ञानिक वजह है। आपको बता दें कि दुनिया में अभी तक ऐसी कोई तकनीक उपलब्ध नहीं है जिससे किसी भूकंप का आने से पहले पता लगाया जा सके। पीएम मोदी के लिखे इस खत से पाकिस्तान के सोशल मीडिया में काफी चर्चा हो रही है। पाकिस्तान के आईएसआई ने हिंद महासागर में भूकंप से  निपटने के लिए 6 नवंबर को एक बैठक भी बुलाई है।

कितनी सच है भूकंप की भविष्यवाणी?

आपको यहां बता दें कि इस भविष्यवाणी को कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है और न ही कोई ऐसी तकनीक मौजूद है जिससे भविष्य में आने वाले भूकंप को पहले ही जाना जा सके। पाकिस्तान जैसे देश में बिना किसी वैज्ञानिक तथ्य और प्रमाण के महज एक आदमी की भविष्यवाणी के आधार पर इस तरह से सूनामी की तैयारियों में लग जाने से उसका काफी मज़ाक भी उड़ाया जा रहा है। भारत के लोगों को इस तरह की सूचना को नजरअंदाज कर देना चाहिए। क्योंकि भारत में भूकंप का कोई ख़तरा मौजूद नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.