कोलकाता – पश्चिम बंगाल सरकार ने एक बार फिर हिन्दु विरोधी फैसला करते हुए दुर्गा पर शांति भंग करने का आरोप लगाते हुए आरएसएस, बजरंग दल और VHP को चेतावनी दी है कि वो आग से न खेलें। ममता ने कहा कि मैंने विजयादशमी त्योहार मनाने पर कोई रोक नहीं लगाई है। इसलिए गलत सूचना फैलाकर दंगा न फैलाएं। आपको बता दें कि ममता ने दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन पर रोक लगाते हुए मोहर्रम मानने कि अनुमति दी है। Mamata Banerjee warns vhp rss.

ममता बनर्जी की VHP, आरएसएस को चेतावनी

पश्चिम बंगाल सरकार के मुताबिक एक अक्टूबर को एकादशी के दिन प्रतिमा विसर्जन नहीं होगा, क्योंकि इस दिन मुस्लिम समुदाय मुहर्रम मनाता है। इसलिए प्रतिमा का विसर्जन दो से चार अक्टूबर तक चलेगा। ममता ने आरएसएस, विहिप और बजरंग दल पर शांति भंग करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें आग से नहीं खेलना चाहिए।

आपको बता दें कि मोहर्रम व दुर्गापूजा को लेकर ममता बनर्जी ने हाल ही में दुर्गा की मुर्ती के विसर्जन पर रोक लगा दी थी। ममता ने कहा था कि, कुछ दल राजनीतिक इसका फायदा उठाने के लिए कुछ भी कर सकते हैं। इसलिए हमें इस दिन सतर्क रहना होगा।

बेरहम ममता कई बार लगाई है दुर्गा पूजा पर रोक

आपको बता दें कि ये कोई पहला मौका नहीं है जब ममता ने हिन्दुओं के त्यौहारों पर रोक लगा कर मुस्लिमों को ज्यादा वरियता दी हो। ममता बीते कुछ वर्षों से इस मुद्दे पर गंदी राजनीति करने का प्रयास कर रही हैं। दरअसल, इस साल 1 अक्टूबर को मोहर्रम है। ममता सरकार ने पिछले साल भी ममता सरकार ने कुछ ऐसा ही किया था। जिसके कारण विजय दशमी मुहर्रम से एक दिन पहले मनाया गया था।

बाद में कोलकाता हाई कोर्ट ने ममता सरकार के फैसले पर उन्हें फटकार लगाते हुए इसे “मनमाना” करार दिया था। कोर्ट ने ममता के फैसले को ‘अल्पसंख्यक वर्ग को खुश करने’ का प्रयास बताया था। गौरतलब है कि बजरंग दल ने इस दिन हथियारों के साथ जुलूस निकालने और शस्त्र पूजा करने का एलान किया है। लेकिन ममता ने कड़ाई से निपटने की बात कही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.