दिलचस्प

इस लेडी IPS अफसर का 40 बार हो चुका है ट्रांसफर, CM को पहना चुकी है हथकड़ियाँ

आईएएस (IAS) और आईपीएस (IPS) अफसरों से संबंधित कई दिलचस्प खबरें अक्सर सोशल मीडिया पर वायरल होती रहती हैं। इसी कड़ी में एक मशहूर आईपीएस अधिकारी हैं रूपा दिवाकर मौदगिल, जो अपने बेबाक और निडर अंदाज के लिए जानी जाती हैं।

जी हां, रूपा वही आईपीएस अधिकारी है, जिन्होंने मध्यप्रदेश की तत्कालीन मुख्यमंत्री उमा भारती को गिरफ्तार किया था। आज हम इस आर्टिकल में आपको रूपा दिवाकर मौदगिल के कुछ ऐसी ही दिलचस्प बातों के बारे में बताने वाले हैं।

रूपा दिवाकर मौदगिल का जन्म कर्नाटक में हुआ और शुरूआती पढ़ाई लिखाई के बाद उनका लक्ष्य आईपीएस अधिकारी बनने का हो गया। इसके लिए उन्होंने कड़ी मेहनत की और साल 2000 आईपीएस कैडर में चुनी गईं। बता दें कि रूपा ने यूपीएससी में 43वीं रैंक हासिल की थी।

20 साल के करियर में हुआ 40 बार ट्रांसफर

इसके बाद उन्होंने सरदार वल्लभभाई पटेल पुलिस अकादमी हैदराबाद में प्रशिक्षण लिया। इस दौरान उन्होंने 5वीं रैंक हासिल की। प्रशिक्षण पूरा करने के बाद रूपा को कर्नाटक के धारवाड़ जिले में एसपी के पद पर नियुक्ति मिली।

नियुक्ति होने के बाद रूपा हमेशा से ही एक निडर अफसर रहीं और कभी किसी के दबाव में काम नहीं किया। यही वजह है कि रूपा को 20 साल के अपने करियर में 40 बार ट्रांसफर मिल चुका है।

साल 2003-04 में एक केस के चलते उन्होंने मध्यप्रदेश की तत्कालीन सीएम उमा भारती को गिरफ्तार कर लिया था और इसके बाद से ही उनके ट्रांसफर का दौर शुरू हो गया, जो अब भी जारी है। कहा जाता है कि रूपा दिवाकर मौदगिल जिस भी जिले में नियुक्त होती हैं, वहां के भ्रष्टाचारियों का पर्दाफाश करके ही दम लेती हैं।

तबादले के लिए हमेशा रहती हूं तैयार- डी रूपा

अपने तबादलों के बारे में रूपा कहती हैं कि मुझे तबादले से कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि मुझे पता है कि जब भी मैं गलत काम के खिलाफ आवाज उठाती हूं तो मेरा तबादला कर दिया जाता है। साथ ही वो कहती हैं कि सरकारी नौकरी में तबादला होना कोई बड़ी बात नहीं है बल्कि ये एक हिस्सा है।

उन्होंने कहा जब आप एक आईएएस और आईपीएस अधिकारी के पद पर कार्यरत रहते हैं तो इसके लिए मानसिक रूप से तैयार रहना बहुत जरूरी है। उनका मानना है कि जब कोई अफसर भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ता है तो जोखिमों से गुजरना लाजमी है। बहरहाल, आईपीएस रूपा ने जितने साल नौकरी की है उससे दोगुने बार उन्हें ट्रांसफर मिल चुका है।

आपको बता दें कि रूपा दिवाकर मौदगिल को आईएएस पद पर काम करने का मौका मिला था, मगर वो बचपन से ही आईपीएस अफसर बनना चाहती थीं इसलिए उन्होंने आईपीएस का पद चुना।

रूपा बेहतरीन पुलिस अधिकारी होने के साथ साथ कई अन्य कलाओं में भी निपुण हैं। उन्हें भारत नाट्यम डांस के साथ सिंगिंग का भी काफी शौक है। आपको जानकर हैरानी होगी कि उन्होंने एक कन्नड़ फिल्म बयालाताड़ा भीम अन्ना में एक गाना भी गाया है।

रूपा एक शार्प शूटर भी हैं, जिसकी वजह से उन्हें कई अलग अलग पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। बता दें कि उन्हें 2 बार राष्ट्रपति के हाथों पुलिस पदक भी मिला है।  रूपा  दिवाकर मौदगिल ने साल 2003 में आईएएस अधिकारी मुनीश मुद्गील से शादी की थी।

Back to top button
?>