अध्यात्म

आज है सोमवती अमावस्या, इस दिन जरूर करें दान, इन बातों की बरतें सावधानी

आज सोमवती अमावस्या है जो कि दोपहर 12:30 से शुरू हो जाएगी। सोमवती अमावस्या को हिन्दू पौराणिक शास्त्रों में महत्वपूर्ण बताया गया है। सोमवती अमावस्या के दिन पूजा पाठ करने से विशेष लाभ मिलता है। सोमवती अमावस्या को भौमवती अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक ये अमावास्या 23 मार्च को दोपहर 12:30 से शुरू होगी और अगले दिन यानी 24 मार्च दोपहर 2:58 बजे तक रहेगी। इस अमावस्या के दौरान आप पूजा पाठ जरूर करें।

क्यों कहा जाता है सोमवती अमावस्या

जब सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी एक सीध में होते हैं। उस दिन अमावस्या होती है। वहीं सोमवार के दिन आने वाली अमावस्या को सोमवाती अमावस्या कहा जाता है। सोमवती अमावस्या के दिन गंगा स्नान और शिव जी की पूजा का विशेष महत्व होता है। साथ में ही इस दिन व्रत भी रखा जाता है।

सोमवती अमावस्या के दिन करें ये काम

सोमवती अमावस्या के दिन सुबह उठकर स्नान जरूर करें। गंगा स्नान के लिए आप स्नान वाले पानी में गंगा जल मिला दें। नहाने के बाद आप मंदिर जाकर शिव जी की पूजा करें। शिव जी की पूजा करते समय सबसे पहले उन्हें दूध अर्पित करें और उसके बाद उन्हें जल चढ़ाएं। शिवलिंग को चंदन का तिलक लगाए और उसके बाद उन्हें फूल चढ़ाए। शिवलिंग के पास दीपक जलाकर पूजा करें। पूजा पूरी होने के बाद आप दान करें।

दान करें ये चीजें

सोमवती अमावस्या के दिन दान करने से पुण्य हासिल होता है और पाप नष्ट हो जाते हैं। सोमवती अमावस्या के दिन आप खाने की चीजों का दान करें। किसी गरीब व्यक्ति को दाल, चावल, आटा और इत्यादि चीजें आप दान में दें सकते हैं। साथ में वस्त्र का दान भी कर सकते हैं।

महिलाएं करें ये काम

सोमवती अमावस्या के दौरान पीपल के पेड़ की पूजा करना और इस पेड़ की परिक्रमा करने से पति को आयु लंबी हो जाती है। इसलिए सुहागन महिलाएं सोमवती अमावस्या के दिन पीपल के पेड़ की पूजा जरूर करें और व्रत रखें। पीपल के पेड़ की पूजा करने के लिए सबसे पहले इस पेड़ के सामने एक दीपक जला दें। उसके बाद इस पेड़ पर जल अर्पित करें। इस पेड़ पर मौली का धागा बढ़ाएं और धागा बाधते समय इस पेड़ की परिक्रमा करें। कम से कम इस पेड़ की तीन परिक्रमा करें। इसके अलावा जिन लोगों का विवाह नहीं हुआ है वो लोग सोमवती अमावस्या के दिन शिव की पूजा करें। शिव जी की पूजा करने से विवाह जल्द हो जाएगा।

ना करें ये काम

अमावस्या के लिए आप नीचे बताए गए कामों को करें से बचें।

1. इस दिन प्याज और लहसुन का सेवन ना करें।

2. रात को चौहारे पर जाने से बचें।

3. किसी अनजान व्यक्ति के हाथ से मीठी चीज ना खाएं।

4. शराब का सेवन करने से बचें।

साल 2020 में कब-कब आ रही हैं अमावस्या –

साल 2020 में अमावस्या कब आ रही हैं इसकी जानकारी इस प्रकार है.

  • 22 अप्रैल 2020 को अमावस्या
  • 21 मई 2020 को अमावस्या
  • 20 जून 2020 को अमावस्या
  • 20 जुलाई 2020 को सोमवती अमावस्या
  • 18 अगस्त 2020 को अमावस्या
  • 16 सितंबर 2020 को महालय अमावस्या
  • 16 अक्टूबर 2020 को अमावस्या
  • 14 नवंबर 2020 को अममावस्या
  • 14 दिसंबर 2020 को सोमवती अमावस्या

Back to top button
?>