विमान में अचानक यात्रियों के नाक-कान से निकलने लगा ख़ून, जानिए क्या है पूरी घटना

मुंबई: हर कोई यह चाहता है कि वह विमान में यात्रा करे और लम्बी दूरी को कम समय में तय करे। लेकिन विमान हादसों की वजह से कई लोगों के मन में इसको लेकर डर बैठ जाता है और वह जीवनभर विमान में यात्रा ही नहीं करते हैं। आप लोगों में से भी कई लोगों ने विमान की यात्राएँ की होगी, लेकिन ज़रा सोचिए कि विमान की यात्रा के दौरान आपके नाक-कान से ख़ून निकलने लगेगा तो आप क्या करेंगे। शायद आप भी विमान यात्रा करने से डरने लगेंगे।

क्रू मेंबर भूल गए थे दबाना प्रेशर मेंटेन करने वाला बटन:

हाल ही में एक ऐसी ही घटना सामने आयी है, जिसमें विमान में बैठे यात्रियों के नाक-कान से अचानक ख़ून निकलने लगा। जानकारी के अनुसार मुंबई से जयपुर जा रही जेट एयरवेज की फ़्लाइट में अचानक ही कई यात्रियों नाक और कान से ख़ून निकलने लगा। कई यात्रियों के सिर में तेज़ दर्द भी होने लगा। ऐसे में विमान को मुंबई एयरपोर्ट पर वापस बुलाया गया। बता दें विमान में यह घटना क्रू मेंबर की ग़लती की वजह से हुई। दरअसल क्रू मेंबर केबिन प्रेशर को मेंटेन करने वाली बटन को दबाना ही भूल गए थे। मिली जानकारी के अनुसार जेट एयरवेज के इस विमान में 166 यात्री सवार थे।

विमान में महसूस होने लगी हवा की कमी:

विमान कम्पनी ने जानकारी दी है कि सभी यात्री सुरक्षित हैं। बताया जा रहा है कि जब विमान बीच हवा में पहुँचा तो 30 यात्रियों के नाक और कान से अचानक ख़ून निकलने लगा। यह नज़ारा देखकर विमान में हड़कम्प मच गयी। कोई यह नहीं समझ पा रहा था कि आख़िर ऐसा किस वजह से हुआ। फिर क्रू मेंबर को यह ध्यान आया कि उन्होंने तो केबिन प्रेशर मेंटेन करने वाले स्विच को दबाया ही नहीं। इस वजह से विमान के हवा में ऊँचाई पर पहुँचते ही लोगों को हवा की कमी महसूस होने लगी। इसी वजह से कुछ लोगों ने नाक और कान से ख़ून भी निकलने लगा।

दे दिए गए हैं मामले में जाँच के आदेश:

जेट एयरवेज के प्रवक्ता ने घटना पर सफ़ाई देते हुए कहा कि, मुंबई से जयपुर जा रहे हमारे विमान को आज इसलिए वापस बुलाना पड़ा, क्योंकि केबिन प्रेशर कम हो गया था। 166 यात्रियों, 5 क्रू मेंबर सहित विमान को सुरक्षित तरीक़े से मुंबई एयरपोर्ट पर उतार लिया गया। विमान में जिन यात्रियों को नाक-कान से ख़ून निकलने की समस्या हुई थी उन्हें तुरंत फ़र्स्ट एड मुहैया करवाया गया। उन्होंने बताया कि जिस क्रू मेंबर की ग़लती की वजह से यह हादसा हुआ, उसे तत्काल प्रभाव से ड्यूटी से हटा दिया गया है। साथ ही इस मामले में जाँच के भी आदेश दे दिए गए हैं।

नागरिक उड्डयन के महानिदेशालय ने बताया कि हादसे के सामने आने के बाद क्रू मेंबर्स को ड्यूटी से तुरंत ही हटा दिया गया है। इस मामले में जाँच के भी आदेश दे दिए गए हैं। एयरक्राफ़्ट एक्सिडेंट इन्वेस्टिगेशन ब्यूरो ने इस मामले की जाँच शुरू कर दी है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा जारी बयान में बताया गया कि नागरिक उड्डयन के महानिदेशालय से इस मुद्दे पर तुरंत अपनी रिपोर्ट दर्ज करवाने का अनुरोध किया है। विमान में 166 लोगों में से 30 प्रभावित हुए लोगों को इलाज भी दिया गया।