जनता जान सकेगी अब अपने नेता का हिसाब, जानिये क्या है पूरा प्रोसेस

बढ़ते संचार प्रौद्योगिकी से आज के जमाने में कोई भी इससे अछूता नहीं है। इसी कड़ी में अब कोई व्यक्ति अपने नेता के बारे में जानना चाहता है तो उसे अपने नेता की जानकारी एक एप के जरिए मिल जाएगी। नेता ने कौन से चुनावी वादे किए, उसने इलाके के लिए कौन कौन से काम किए हैं, वह कैसा है इत्यादि सारी जानकारी महज एक एप के जरिए मिल जाएगी। इस अनूठे के एप जरिए आप जान पाएंगे कि आपके इलाके के विधायक और नेताओं ने क्या क्या काम किया है। ऐसे ही नेता एप को आज पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने आज लांच किया है।

आईटी के जानकार प्रथम मित्तल द्वारा यह एप लांच किया गया है। इस एप के जरिए लोग अपने अपने क्षेत्र के जनप्रतिनिधि के कामकाज की निगरानी कर सकेंगे। और यह एप नेताओं के कार्य को आम जनता द्वारा नजर रखने के लिए, आम इंसान का एक महत्तवपूर्ण हथियार बनेगा। तो आइये जानते हैं क्या खास है इस एप में और इसके निर्माता प्रथम मित्तल ने क्या कहा है।

  • मित्तल ने बताया कि एंड्रायड आईओएस समेत वेब पोर्टल पर उपलब्ध इस एप पर लोग अपने नेताओं की रेटिंग कर सकेंगे साथ ही यह भी जान सकेंगे की उनके प्रतिनिधि के लिए कौन से काम किए हैं।
  • प्रथम मित्तल ने कहा है कि इसका प्रयोग कर्नाटक विधानसभा के दौरान किया जा चुका है। और इसमें यह सफल रहा। उन्होंने कहा कि 93 प्रतिशत उम्मीदवार जिन्होंने चुनाव जीते वे नेता एप की रेटिंग में श्रेष्ठ थे।
  • मित्तल ने कहा कि इस एप को पिछले आठ महीनों में 543 लोकसभा सीटों और 4120 विधानसभा सीटों में तकरीबन 1.5 करोड़ लोग इसका प्रयोग कर चुके हैं।
  • उन्होनें उम्मीद जताई है कि अागामी चुनाव से पहले यह आंकड़ा दस करोड़ तक पहुंच सकता है जो लोग इस एप का प्रयोग करेंगे।
  • प्रथम मित्तल ने इस एप की खासियत बताते हुए कहा कि यह एप 16 भाषाओं में चल सकता है।
  • उन्होंने कहा कि विश्व के सबसे बड़़े लोकतांत्रिक देश में इस तरह के मंच का होना अनिवार्य है जहां लोग अपने नेता के बारे में जान सकें और उन्हें रेटिंग दे सकें।
  • मित्तल ने कहा कि यह राजनीतिक जवाबदेही को तय करने वाला एक एप है। और लोगों में राजनीतिक जागरूकता भी बढ़ाएगा। जिससे लोग अपने नेता के बारे में राय देने में सक्षम रहेंगे।
  • मित्तल ने बताया कि लोग अपने नेता को पांच में से कोई भी रेटिंग अंक दे सकते हैं। और यह रेटिंग उनके आगामी चुनाव पर भी असर डाल सकती है। क्योंकि कई राजनीतिक इस तरह के सोशल रेटिंग को नजर रखते हुए टिकट वितरण करते हैं।

नेता एप के लॉंचिंग में मौजूद प्रणब मुखर्जी ने कहा कि यह एप लोकतांत्रिक व्यवस्था में जनप्रतिनिधि की जवाबदेही और राजनीति में जनता की भागीदारी को बढ़ाएगा।

इस एप के लॉचिंग के दौरान दिल्ली के सीएम केजरीवाल और पूर्व चुनाव आयुक्त मौजूद थे। इस मौके पर केजरीवाल ने कहा कि इस एप के जरिए मतदाताओं को बेहतर काम करने वाले प्रतिनिधि को चुनने में आसानी होगी।