सावन में शिवपूजन के साथ हरे रंग को भी दें महत्व, जानिए इसके 5 चमत्कारिक फायदे

27 जुलाई से सावन का पवित्र महीना शुरु हो रहा है, सभी शिवभक्त इस महीने का इंतजार करते हैं. ऐसे में महिलाएं, बच्चे, बूढे और जवान सभी सावन की हरियाल का आनंद उठाते हैं और खूब मजे करते हैं. सावन के महीने में सोमवार का भी अपना खास महत्व होता है. इस बार का पहला सोमवार 30 जुलाई को पड़ेगा, और इस दिन सभी शिव भक्त व्रत रखने के साथ-साथ हर वो काम करेंगे जिससे भोलेनाथ प्रसन्न होंते हैं. बहुत से लोग इस दिन से लेकर पूरे सावन अपने आस-पास हरा रंग देखना चाहते हैं क्योंकि भोलेनाथ को हरा रंग बहुत पसंद है. मगर सावन में शिवपूजन के साथ हरे रंग को भी दें महत्व, इसके महत्व को जानकर आपको भी भोलेनाथ को प्रसनन करना चाहिए क्योंकि ऐसा बताया जा रहा है कि इस बार का सावन बहुत से लोगों के लिए बहुत लाने वाला है.

सावन में शिवपूजन के साथ हरे रंग को भी दें महत्व

सावन का महीने में हर तरफ हरियाली दिखती हैं. यहां तक की भारतीय महिलाओं में ज्यादा उत्सव देखने को मिलता है. वे हरे रंग के कपड़े पहनती हैं, झूले लगाती हैं और अपनी सहेलियों के साथ खूब मस्ती करत हैं. वहीं सुहागिन महिलाएं हरी चूड़ियां पूरे महीने पहनकर भोलेनाथ को प्रसन्न करती हैं और अपने सुहाग और परिवार के लिए सुख-समृद्धि मांगती हैं. ऐसा सिर्फ बातों में ही जिक्र नहीं है बल्कि ये सभी बातें धार्मिक मान्यताओं पर आधारित है और इसे विद्वान भी मानते हैं कि सावन का दूसरा नाम ही हरियाली है. सावन में हरे रंग का क्या है महत्व और कैसे प्रसन्न होते हैं भोलेनाथ, चलिए बताते हैं आपको कुछ फायदे.

1. सावन के महीने में अगर आपने शिवलिंग पर सिर्फ हरी चीजें ही चढ़ाईं तो भोलेनाथ अतिप्रसन्न होंगे और आपके सभी बिगड़े काम बनेगें. ऐसा बताया जाता है कि शिवजी को हरा रंग अतिप्रिय है और अगर इन सभी चीजों से आप शिव जी की उपासना करेंगे तो अच्छा लाभ होगा.

2. इस पूरे महीने शिवभक्त हरे रंग के कपड़ों को ज्यादा महत्व देते हैं. कुछ लोगों का ऐसा भी मानना है कि शिव जी सावन के महीने में धरती पर भ्रमण करते हैं और अपने भक्तों पर विशेष कृपा बनाते हैं लेकिन अगर अगर आप हरे रंग का वस्त्र पहने हो तो वो कृपा विशेष रहेगी.

3. धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, सावन आने पर हरियाली हर तरफ छा जाती है. हरियाली ना सिर्फ आंखों को खुश करती है बल्कि ये आपके मन को शांति भी प्रदान करती है. ऐसे में खुद को प्रकृति से जोड़ने के लिए आपको हरे रंग का वस्त्र और महिलाओं को हरे रंग की चूड़ियां जरूर पहननी चाहिए.

4. शास्त्रों में ऐसा भी लिखा है कि प्रकृति ईश्वर का ही रूप होती है. जो भी प्रकृति की पूजा करता है उसपर देवता की खास नजर होती है. इस पूरे महीने हरा पहनने वालों पर प्रकृति की विशेष कृपा बनने के कारण उसके सभी काम होते हैं और इस महीने में हरे रंग के उपयोग से भाग्य भी अच्छा रहता है.

5. धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, सावन में अगर महिलाएं हरी चूड़ियां पहनती हैं तो उनके घर में समृद्धि और उनके सुहाग का जीवन दोनों स्थिर रहता है. शास्त्रों ने भी बताया है कि सावन के महीने में हरे रंग की चूड़ियां पहनने से शिवजी सुहागिन रहने का आशिर्वाद देते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

5 × two =