पुलिस ने किया अर्जित को अरेस्ट, समर्थको ने लगाएं जय श्री राम के नारे

बिहार के भागलपुर में हिंसा भड़काने के आरोप में केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित को पुलिस ने गिरफ्तार कर किया, जिसके बाद से ही मामले में नया मोड़ देखने को मिल रहा है। बता दें कि पिछले कुछ दिनों से बिहार में तनाव का माहौल है, जिसको लेकर पुलिस ने अर्जित को अरेस्ट किया। जी हां, अर्जित की गिरफ्तारी से पहले और बाद में भी नीतीश कुमार वे बड़ा दबाव देखने की मिल रहा है। जहां, गिरफ्तारी से पहले विपक्ष का दबाव था, तो अब उनकी सहयोगी बीजेपी का दबाव भी उन पर साफ साफ दिखाई दे रहा है। आइये जानते हैं कि हमारे इस रिपोर्ट में क्या खास है?
बीते 17 मार्च को बिहार के भागलपुर में साम्प्रदायिक हिंसा देखने को मिला था, जिसमें केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित पे हिंसा भड़काने का आरोप लगाया जा रहा है। ऐसे में उनके खिलाफ कोर्ट ने वारेंट जारी कर दिया था, इसके साथ ही उनकी जमानत याचिका को भी खारिज कर दिया था, ऐसे में बिहार पुलिस ने उन्हें पटना रेलवे स्टेशन के बाहर शनिवार को गिरफ्तार कर लिया। बता दें कि गिरफ्तारी के बाद अर्जित बोले कि मैंने सरेंडर किया है, तो वहीं पुलिस सूत्रों का दावा है कि उन्होंने अर्जित को पकड़ा है। मामला चाहे जो कुछ भी क्यों न हो, कानून व्यवस्था को बनाये रखने के लिए अर्जित का गिरफ्तार होना बहुत जरूरी था।

]बताते चलें कि अर्जित की गिरफ्तारी के समय के जय श्री राम के नारे भी लगे। बड़ी संख्या में समर्थको ने जय श्री राम के नारे लगाएं, तो इस बीच अर्जित ने कहा कि मेरे पापा मुझे जरूर इस मुसीबत से बाहर निकलेंगे, क्योंकि ये सब मेरे खिलाफ साजिश है। और एक बाप का फर्ज होता है कि वो अपने बेटे को बचाये, ऐसे मेरे पापा को पता है कि मैं निर्दोष हूँ, वरना वो सामने नहीं आते। ऐसे में अब अर्जित को कोर्ट में पेश किया जाएगा, जिसके बाद उन पे क्या एक्शन लिया जाएगा, इस बात से पर्दा हटेगा।

गौरतलब है कि अर्जित ने अग्रिम जमानत के लिए याचिका दायर की थी, लेकिन कोर्ट ने खारिज करते हुए वॉरेंट जारी कर दिया था, जिसके बाद से ही अर्जित की मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही है। दावा किया जा रहा है कि जिस समय बिहार में हिंसा भड़की थी, उस समय अर्जित को वहां देखा गया था, इसी को लेकर उन पर गम्भीर आरोप लगाया जा रहा है। अब देखना ये होगा कि क्या अर्जित खुद को इस मामले से बाहर निकलने में कामयाब होते हैं या नहीं, ये तो खैर वक्त ही बताएगा।

अर्जित को लेकर विपक्ष के नेता तेजस्वी ने बड़ा हमला बोला था। जी हां, नीतीश पर हमला बोलते हुए तेजस्वी ने कहा था कि क्या अब उनका जमीर मर गया, जो अर्जित को गिरफ्तार नहीं करा पा रहे हैं, ऐसे में अब शायद नीतीश इस बोझ से मुक्ति पा चुके हो, लेकिन बीजेपी द्वारा उन पर दबाव तो बनाया ही जा रहा होगा।

Shreya Pandey

Web Journalist