जानें, पत्नी पाने के लिए जापानी युवा करते हैं कौन- कौन से जतन!

शादी करना हर किसी के लिए बड़ी बात होती है, शादी का फैसला करने से पहले ये देखना ज्यादा जरुरी होता है कि क्या सच में हम शादी के लिए तैयार हैं। शादी करने के बाद हमें कुछ जिम्मेदारियाँ निभानी पड़ती हैं क्या हम उसके लिए पूरी तरह से तैयार हैं। इन सबके बाद ही शादी करना सही होता है, जिससे खुशहाल शादी- शुदा जिन्दगी बितायी जा सके। हमारे यहाँ तो शादी का फैसला लेना बड़ा ही आसान है लेकिन कही- कही यह बहुत ही मुश्किल होता है। जापान के लड़के शादी करने से पहले सीखते है कुछ ख़ास कौशल जिससे उन्हें शादी के बाद परेशानी ना हो। इसे “इकुमेन” कहा जाता है, इसके लिए वहाँ पर कोर्स भी कराये जाते हैं। आइये जानते हैं जापान की इस अनोखी परम्परा “इकुमेन” के बारे में।

इकुमेन

बच्चों को पलने की कला:

जापान में ऐसे युवकों के शादी की ज्यादा सम्भावना होती है जिन्हें बच्चे पलना आता है। जापान में चलाये जा रहे कोर्स इकुमेन के अंतर्गत उन्हें बच्चे को नहलाना, कपड़े बदलना, दूध पिलाना और महिलाओं की मनोस्थिति को समझने के बारे में भी बताया जाता है।

गर्भ का भार सहना:

जापान के ओसाका में स्थित “इकुमेन यूनिवर्सिटी” नाम की कंपनी ने इस कोर्स की शुरुआत की है। कोर्स में भाग लेने वाले सभी लड़कों के शरीर पर 7- 8 किलो भारी प्रेगनेंसी जैकेट बाँध दिया जाता है, जिससे उन्हें पता चल सके कि गर्भ के समय कितना भार एक औरत ढोती है।

इकुमेन

महिलाओं की पसंद के बारे में जानना:

शरीर के साथ- साथ औरत की मानसिक परेशानियों को सिखाने पर भी काफ़ी जोर दिया जाता है। होने वाली पार्टनर की पसंद- नापसंद को जानना, और उनके साथ अच्छे से बात करने की कला भी सिखाई जाती है।

सर्टिफिकेट देना:

युवकों से उन आदतों के बारे में पूछा जाता है जिसे महिलाएँ नापसंद करती है। युवकों की उन आदतों को जल्द से जल्द दूर करके उन्हें विवाह योग्य बनाया जाता है और उन्हें विवाह करने का सर्टिफिकेट मिल जाता है।

जापान में ऐसे लोगों की खूब माँग:

जापान में शादी के लिए निकलने वाले इश्तेहार में अगर इस बात का जिक्र हो की लड़के के पास यह सर्टिफिकेट है तो उसे वरीयता मिलती है। इस बात से पता चलता है कि वह ना केवल शादी के लिए तैयार हैं बल्कि बच्चे सम्हालने में भी माहिर हैं।