भारत ने लिया बदला, 7 पाक सैनिक ढेर – पाकिस्तान ने दी चेतावनी, कभी भी छिड़ सकता है युद्ध

नई दिल्ली – कल लगातार तीसरे दिन पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर ‘संघर्ष विराम के उल्लंघन’ को लेकर भारतीय उप उच्चायुक्त जेपी सिंह को तलब किया। पाकिस्तान कि ओर से दावा किया गया कि भारतीय सैनिक रिहायशी इलाकों को निशाना बना रहे हैं और भारतीय सैनिकों द्वारा यात्री बस को जानबूझकर निशाना बनाकर किए गए संघर्ष विराम के उल्लंघन की निंदा की।  War between India and Pakistan.

इससे पहले भारत और पाकिस्तान के डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस ने बुधवार को सैनिक का शव क्षत-विक्षत करने के मुद्दे पर हॉटलाइन पर बातचीत की। गौरतलब है कि मंगलवार को हुई इस घटना के बाद भारतीय सेना ने जबरदस्त कार्रवाई की, जिसके बाद पाकिस्तान के डीजीएमओ ने बातचीत की गुजारिश की थी।

13 साल बाद भारतीय सैनिकों ने की सबसे बड़ी कार्रवाई –

इससे पहले पाकिस्तानी सेना ने कहा कि नियंत्रण रेखा पर भारतीय सैनिकों के साथ गोलीबारी में कथित रूप से उसके तीन सैनिकों सहित सात लोग मारे गए जिसके साथ पिछले हफ्ते से इस तरह की घटनाओं में मरने वाले लोगों की संख्या 14 हो गई है। पाकिस्तान के अधिकारियों ने अपने तीन जवानों की मौत की पुष्टि की है। इनके नाम कैप्टन तैमूर अली, हवलदार मुश्ताक हुसैन और गुलाम हुसैन हैं। इससे पहले वर्ष 2003 में युद्ध विराम के बाद भारत की तरफ से सीमा पर यह सबसे अब तक कि सबसे बड़ी कार्रवाई है।

सीमा पर फायरिंग बंद, राजनाथ ने की उच्चस्तरीय बैठक –  

भारतीय सेना ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया और मोर्टार और भारी हथियारों का इस्तेमाल कर पाकिस्तान में फायरिंग की। उसके बाद सी सीमा पार से फायरिंग बंद हो गई।

जम्मू कश्मीर में पुंछ जिले के बालाकोट इलाके के अलावा बीमबेर, कृष्णा घाटी और नौशेरा सेक्टरों में बुधवार सुबह 9 बजे से सीमापार से फायरिंग शुरू हुई थी। पाकिस्तान ने एलओसी पर मोर्टार शेल दागे और वहां से लगातार फायरिंग की जा रही थी। सीमा पर पाकिस्तान के साथ बढ़ते तनाव और सीमा पार से लगातार हो रही फायरिंग से उत्पन्न हालात के मद्देनजर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को नई दिल्ली में उच्चस्तरीय बैठक की। इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, गृह सचिव और तमाम आला अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

fifteen − 7 =