नई दिल्ली – दुनिया इतनी बदल गई है कि कहा नहीं जा सकता कि कब किसके साथ क्या हो जाये। कौन कहां किस घटना दुर्घटना का शिकार हो जाये पता नहीं। लेकिन, देश में आज भी आत्महत्या करके मरने वाली लोगों कि संख्या किसी दुर्घटना में मरने वाले लोगों से बिल्कुल भी कम नहीं है। अगर पिछले कुछ सालों में हुई घटनाओं पर गौर करें तो ऐसा लगता है कि लोगों के आत्महत्या करने की घटनाओं में वृद्धी हुई है। आत्महत्या के कारणों की बात करे तो इसके लिए मुख्य वजह निराशा, अवसाद, विकार, शराब की लत या मादक दवाओं का सेवन जैसे मानसिक विकार जिम्मेदार होते हैं।

तनाव के कारण भी लोग कई बार आत्महत्या करने का प्रयास करते हैं। लेकिन, आत्महत्या करने कि सबसे बड़ी वजह इंसान का मानसिक रुप से कमजोर होना बताया जाता है। अक्सर देखा जाता है कि जिन लोगों कि मानसिक क्षमता कम होती है वह जल्द ही किसी बात पर अपना मानसिक संतुलन खोकर आत्महत्या करने जैसे कदम उठा लेते हैं। आत्महत्या का नया मामला पंजाब के जालंधर शहर से सामने आया है। जहां एक महिला ने आत्महत्या करने जैसा कमजोर कदम उठाकर सभी को हैरान कर दिया।

रिपोर्ट के मुताबिक, पंजाब के जालंधर शहर की रहने वाली एक महिला ने खुद को घर के अंदर बंद करके फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। लेकिन, इस मामले में सबसे चौंकाने वाली बात ये थी महिला की सास घर के ठीक बाहर सर्दी की वजह से धूप सेंक रही थी और उसे बहू के इस खौफनाक कदम का बिल्कुल भी अंदाजा नहीं हुआ। महिला के घरवालों का कहना है कि उन्हें ऐसा कभी नहीं लगा कि वो किसी बात से इस तरह का कदम उठा सकती है। आत्महत्या करने वाली महिला का नाम हरसिमरनजीत कौर था जिसकी शादी कुछ साल पहले कमलजीत सिंह से हुई थी। दोनों का एक बेटा भी है।

हरसिमरनजीत कौर जब खुद को फांसी लगा रही थी उस वक्त घर पर कोई भी नहीं था और उसकी साल घर के बाहर धूप सेंक रही थी। लेकिन, सास जब कुछ देर बाद घर में वापस आई तो अपनी बहू को फांसी के फंदे से झूलता देखा। फिल्हाल पुलिस इस मामले की जांच कर रही है, लेकिन अभी तक पुलिस भी यह बात समझ नहीं सकी है कि आखिर इस महिला ने आत्महत्या क्यों की। हालांकि, पुलिस इस मामले में महिला के पति और उस वक्त घर के आस पास मौजूद उसकी सास पर ही जा रहा है। पुलिस के मुताबिक, महिला के पास से कोई सुसाइड नोट भी नहीं मिला है, जिसकी वजह से दोनों पर शक और गहरा हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.