समाचार

IAS बनने की चाहत में नकल करता पकड़ा गया मुस्लिम IPS ऑफिसर, तरीका जानकर पुलिस के उड़ गए होश

नई दिल्ली – चेन्नई में UPSC की मुख्य परीक्षा में एक आईपीएस ऑफिसर को नकल करते हुए पकड़ा गया है। इस ऑफिसर को चेन्नई में बैठी उसकी बीवी नकल करने में मदद कर रही थी। ऑफिसर की बीवी ब्लूटुथ डिवाइस की मदद से उसे प्रश्नों के जवाब बता रही थी। इस आईपीएस ऑफिसर का नाम सफीर करीम है, जिसपर नकल करते हुए पकड़े जाने का बाद आईपीएस पर धारा 420 के तहत कार्रवाई की जा रही है।

नकल करता पकड़ा गया आईपीएस अधिकारी

पुलिस के मुताबिक, शबीर करीम ने नकल करते हुए रंगे हाथ पकड़े जाने के बाद ये बात कबूली है कि उसने एग्मोर के सरकारी स्कूल में बने केंद्र में आईएएस की परीक्षा के दौरान नकल करने के लिए अपने कान में एक छोटा ब्लूटूथ डिवाइस लगाया हुआ था और उसकी पत्नी हैदराबाद से मोबाइल फोन के जरिए उसे सवालों के जवाब बता रही थी। ऑफिसर के मुताबिक, उसने अपनी शर्ट में लगे बटन पर माइक्रो कैमरा लगा रखा था, जिससे उसकी पत्नी पेपर में लिखे हुए सवालों को देख रही थी। UPSC की मुख्य परीक्षा में आईपीएस ऑफिसर आईएएस बनने के लिए परीक्षा दे रहा था।

बीवी के साथ एक प्रोफेसर कर रहा था मदद

पुलिस के मुताबिक, हैदराबाद में बैठकर उसकी बीवी कैमरे द्वारा मिल रहे परीक्षा के पेपर की तस्वीरों के जरिए जवाब दे रही थी, जो ब्लूटूथ के जरिए आईपीएस अफसर को सुनार्ई दे रहा था। सवाल का जवाब सुनाई न देने पर वह उसे पेंसिल से लिखकर स्कैन कर रहा था, जिससे उसकी बीवी उसे दोबारा उत्तर बता रही थी। रिपोर्ट के मुताबिक, ऑफिसर कि बीवी के साथ एक प्रोफेसर भी बैठा था। इस प्रोफेसर की पहचान हैदराबाद के अशोकनगर स्थित लॉ एक्सेलेंस आईएएस स्टडी सर्किल के निदेशक डॉ पी रामबाबा के तौर पर हुई है। शबीर करीम को दो कंप्यूटर, लैपटॉप, एक आईपैड सहित कई अन्य गैजेट्स का इस्तेमाल करके सवालों का जवाब भेजे जा रहे थे।

एक्टर सुरेश गोपी से मिली आईपीएस बनने की प्रेरणा

करीम के मुताबिक, वह राज्यसभा में बीजेपी सदस्य और एक्टर सुरेश गोपी से काफी प्रभावित है। उन्होंने ही उसे आईपीएस बनने के लिए प्रेरित किया था। गौरतलब है कि करीम 2014 बैच का आईपीएस अधिकारी है और इस समय उसकी पोस्ट‍िंग नागजुनेरी में एएसपी के पद पर है। ये भी खुलासा हुआ है कि करीम खुद का कोचिंग सेंटर भी चलाता है। सबसे खास बात ये है कि यूपीएससी जैसी परीक्षा को करीम कई बार अपनी कोचिंग में वीडियो गेम जैसे आसान बताता था। उसने एक इंटरव्यू के दौरान सिविल सेवा एग्जाम की तुलना वीडियो गेम से भी की थी।

Back to top button