समाचार

ननद को बदनाम करने के लिए भाभी ने पार की सारी हदें, पोर्न साइट पर डाल दी फोटो व नंबर

उत्तर प्रदेश में एक युवती के पास कई सारे युवकों के फोन आने लगे जो कि उससे अश्लील फरमाइश किया करते थे। जब युवती ने तहकीकात की तो पाया कि उसकी भाभी के कारण ये सब हो रहा था। जिसके बाद युवती ने फौरन पुलिस में जाकर अपनी भाभी के खिलाफ केस दर्ज करवा दिया। ये मामला आगरा जिले के सदर थाना क्षेत्र से संबंधित है। पीड़िता का आरोप है कि भाभी ने बदनाम करने के लिए अश्लील वेबसाइट पर उसके फोटो अपलोड कर दिए थे। जिस कारण से उसे इतने फोन आने लगे। पीड़िता ने बताया कि छह मार्च से वे परेशान है। रात को नींद तक नहीं आ रही थी। वो यही सोचा करती थी कि आखिर किसने ये किया होगा। फोन से तंग आकर वो अपना मोबाइल बंद ही रखती थी और कोई काम होता था तभी मोबाइल ऑन करती हैं।

पीड़िता ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाते हुए कहा कि लड़के वीडियो कॉल करके अश्लील फरमाइश करते थे और उससे कीमत पूछते थे। वहीं मामला दर्ज होने के बाद साइबर पुलिस इसकी जांच कर रही है। पुलिस ने ननद के कहने पर सदर थाने में भाभी और एक युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। युवती के अनुसार भाई की कुछ समय पहले मौत हो गई थी। भाई की मौत के बाद भाभी का व्यवहार एकदम से बदल गया और अक्सर लड़ाई करने लगी। भाभी हमेशा उल्टा सीधा बोला करती थी और ज्यादातर समय घर से बाहर रहने लगीं। पूछने पर घर में हंगामा किया करती थी। वहीं कुछ दिन पहले ही दोनों के बीच विवाद हो गया। उसके बाद से ननद के नंबर पर कई युवकों के फोन आने लगे। सभी देर रात वीडियो कॉल किया करते थे। जिस तरह की बाते वो करते थे। उससे युवती परेशानी हो गई थी।

पीड़िता ने पुलिस को बताया कि एक दिन में बीस-बीस फोन आते थे। जो भी फोन करता ऐसी बात करता जैसे वह देह व्यापार में लिप्त है। वहीं एक दिन पीड़िता ने फोन करने वाले एक लड़के से पूछा कि उसे उसका नंबर कहा से मिला। युवक ने पीड़िता को बताया कि उसका नंबर एक वेबसाइट पर है और उसकी तस्वीर भी लगी हुई है। लड़की ने बताई गई वेबसाइट पर जाकर देखा तो अपना फोन और नंबर वहां पर पाया। उसे अपनी भाभी शक हुआ।

इस पीड़िता का आरोप है कि भाभी ने उसे बदनाम करने के लिए ऐसा किया है। अजय नाम का एक युवक भाभी के संपर्क में है। दोनों मिले हुए हैं। पीड़ित ननद ने सदर थाने में अजय नाम युवक और भाभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। इंस्पेक्टर सदर जितेंद्र सिंह ने बताया कि तहरीर मिली थी। आईपीसी की धारा 354 सी और 67 आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

इंस्पेक्टर सदर जितेंद्र सिंह ने कहा कि तहरीर मिली थी। पुलिस इस मामले की गहराई से जांच करेगी। विवाद के पीछे कई कारण हैं। आरोपित भाभी के पति का देहांत हो चुका है। ससुर भी नहीं हैं। ससुर की पेंशन सास को मिलती है। ननद भी विवाहित है। उसका पति विकलांग है। मकान के बंटवारे व पेंशन में हिस्सेदारी का विवाद है। भाभी ने ननद को बदनाम करने के लिए साइबर क्राइम किया होगा तो गिरफ्तारी कर लिया जाएगा।

Back to top button
?>