18000 साल पुराने शंख में शख्स ने फूंकी हवा, फिर जो ध्वनि निकली उसने सबको हैरान कर दिया – Pics

‘शंख’ आपको हर भारतीय मंदिर में देखने को मिल जाता है। इसे आमतौर पर पूजा पाठ के दौरान बजाया जाता है। आप ने आज तक कई तरह के शंख देखे होंगे, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शंख के बारे में बताने जा रहे हैं जो 18 हजार साल पुराना है। इतने पुराने शंख को जब हाल ही में एक शख्स ने बजाया तो अंदर से ऐसी ध्वनि निकली कि हर कोई मंत्रमुग्ध हो गया।

यह अनोखा शंख साल 1931 में पाइरेनीस माउंटेंस की मार्सोउलास गुफा में मिला था। तब विशेषज्ञों ने इसे फ्रांस के नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम ऑफ़ टोउलोउस में स्टडी के लिए रख दिया। बस तब से लेकर अब तक किसी ने भी इसे बजाया नहीं था। ऐसे में लोग ये भी भूल गए थे कि इस शंख से कैसी आवाज बाहर आएगी।

यह शंख दिखने में किसी इंसानी खोपड़ी जैसा लगता है। इसमें नक्काशी भी की गई थी, लेकिन इतने साल गुजर जाने के बाद ये मीट गई है। वहीं शंख के अंदर पेंटिंग्स भी की गई थी।

शंख को थोड़ा सा तोड़ा भी गया है ताकि ये और भी अच्छे से आवाज कर सके। ये सामान्य शंखों की तुलना में थोड़ा ज्यादा मुड़ा हुआ भी है।

90 साल बाद इस शंख को बजाने के लिए प्रोफेशनल हॉर्न प्लेयर को बुलाया गया। इस शख्स ने जैसे ही शंख में हवा फूंकी तो इसके अंदर से गजब की आवाज बाहर निकली। इसमें से निकले सुर में तीन नोट्स सी, सी-शार्प और डी निकले। इसकी मधुर आवाज ने हर किसी को हैरान कर दिया।

इस शंख पर कई आर्कियोलॉजिस्ट अभी भी रिसर्च कर रहे हैं। इसका अनोखा डिजाइन इसे एक शानदार म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट बनता है। आर्कियोलॉजिस्ट के अनुसार 18 हजार साल पहले की सभ्यता में इस शंख को सिर्फ धार्मिक उत्सव या खुशी के पलों में ही बजाया जाता रहा होगा।

आर्कियोलॉजिस्ट को पहले लग रहा था कि इस शंख का उपयोग लविंग कप के तौर पर किया जाता होगा, लेकिन बाद में वे लोग इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि यह एक म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट के तौर पर ही इस्तेमाल होता था।

इस शंख की खास बनावट ने भी सबका ध्यान खींचा हुआ है। ये देखने में बड़ा आकर्षक है। अभी तो ये बहुत पुराना हो गया है, लेकिन जब इसे बनाया गया होगा तब इसका लुक और भी आकर्षक रहा होगा।

वैसे आप लोगों को ये अनोखा शंख कैसा लगा हमे केमेन्ट कर जरूर बताएं। क्या आप ने इस तरह का अनोखा शंख पहले कभी देखा है?