बायोग्राफी

Bindeshwari Prasad Mandal Biography In Hindi : बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल की जीवनी

(Bindeshwari Prasad Mandal Biography In Hindi): बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल (Also Known as B.P.Mandal) एक भारतीय राजनेता थे। जिन्होंने पिछड़े वर्ग के लोगों के हित में कई सारे कार्य किया हैं। बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल ने मंडल कमीशन (Mandal Commission) की अध्यक्षता की थी और इस कमीशन के जरिए इन्होंने पिछड़े वर्ग के लोगों को आरक्षण देने की सिफारिश सरकार से की थी। बिहार की राजनीति में भी ये काफी सक्रिय थे और आज भी इनके द्वारा दिए गए योगदान को याद किया जाता है।

बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल की जीवनी (Bindeshwari Prasad Mandal Biography In Hindi)

जन्म – 25 अगस्त 1918
मृत्यु- 13 अप्रैल 1982
पत्नी का नाम- सीता मंडल
पद- बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री
किस चीज के लिए हैं प्रसिद्ध- मंडल कमीशन (Mandal Commission)

बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल का जन्म (Bindeshwari Prasad Mandal Biography)

बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल का जन्म 25 अगस्त 1918 में बनारस के एक हिंदू यादव परिवार में हुआ था। इनका बचपन बिहार राज्य के मधेपुरा के मुरहो गांव में बीता हुआ था। ये एक जमीनदार परिवार से नाता रखते थे। इन्होंने अपने गांव के ही एक सरकारी स्कूल से अपनी शिक्षा हासिल की थी। वहीं उच्च शिक्षा हासिल करने के बाद ये पटना चले गए थे और यहां के कॉलेज से इन्होंने अपनी आगे की पढ़ाई जारी की।

Bindeshwari Prasad Mandal

बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल का करियर (Career of B.P.Mandal)

बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल (Bindeshwari Prasad Mandal ) ने अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद माननीय मजिस्ट्रेट के तौर पर कार्य किया था और इन्होंने 1945 से 1951 तक इस पद पर अपनी सेवाएं दी थी। इन्होंने अपनी नौकरी को छोड़कर कांग्रेस पार्टी को ज्वांइन कर लिया था और यहां से इनके राजनीति करियर की शुरूआत हुई थी। हालांकि बाद में इन्होंने इस पार्टी को छोड़ दिया था और जनता पार्टी में शामिल हो गए थे।

बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल ने बिहार की मधेपुरा से चुनाव लड़ा था और ये इस सीट से 1967 से 1970 और 1977 से 1979 तक सांसद रहे थे। वहीं साल 1968 में ये बिहार के सातवें मुख्य मंत्री बने थे और इन्होंने इस पद की शपथ 1 फरवरी 1968 को ली थी। हालांकि 30 दिनों के बाद इन्हें बिहार के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

मंडल कमीशन (Mandal Commission) के लिए जाने जाते हैं बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल

Bindeshwari Prasad Mandal

बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल (Bindeshwari Prasad Mandal )की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने एक कमीशन का गठन किया था और इस कमीशन को देश के सामाजिक एवं आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों के हितों की रिपोर्ट तैयार करने का कार्य सौंपा गया था। इस कमीशन का गठन साल 1978 में किया गया था और इस कमीशन ने अपनी रिपोर्ट 1980 में तैयार की थी।

कमीशन की सिफारिशों को लेकर हुआ था विरोध

इस कमीशन द्वारा बनाई गई रिपोर्ट में कई सारी सिफारिशें की गई थी। जिसमें से नौकरियों व शिक्षण संस्थानों में अन्य पिछड़े वर्ग को आरक्षण देने की सिफारिश सबसे बड़ी थी। साल 1990 में मंडल कमीशन को जारी करनी की अधिसूचना क्रेंद सरकार की और से जारी की गई थी। इस कमीशन को लेकर देश के कई सारे हिस्सों में विरोध भी हुआ था।

बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल का निधन (Death of Bindeshwari Prasad Mandal)

बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल ने अपने जीवन की आखिरी सांस 13 अप्रैल 1982 में ली थी। इन्होंने अपने जीवन में पिछड़े वर्गों के लिए काफी काम किया है और इनके इसी योगदान को लोगों ने आज भी याद रखा है।

बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल से जुड़ी रोचक बातें (Interesting facts about Bindeshwari Prasad Mandal)

  • इनकी पत्नी का नाम सीता मंडल था और इनके कुल सात बच्चे थे। जिसमें से पांच बेटे और दो बेटियां हैं। इनके परिवार के लोग आज भी राजनीति से जुड़े हुए हैं।
  • भारत सरकार ने साल 2001 में बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल के सम्मान में डाक टिकट जारी की थी।
  • इनके सम्मान में एक इंजीनियरिंग कॉलेज भी बनाया गया है और इस कॉलेज की स्थापना 2007 की गई थी।
  • बिन्देश्वरी प्रसाद मंडल (Bindeshwari Prasad Mandal)के जन्मदिवस पर हर साल कई सारे समारोह का आयोजन किया जाता है और धूमधाम से इनकी जयंती मनाई जाती है।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close