पाकिस्तान एयरलाइंस का कारनामा, लोकल बस की तरह अतिरिक्त यात्रियों को गलियारे में खड़ा कर भरी उड़ान!

पाकिस्तान एयरलाइंस आए दिन ऐसे काम कर रहा है जिससे उसकी दुनिया भर में उसकी किरकिरी हो रही है. पिछले साल एक विमान हादसे के बाद हवाई पट्टी पर काले बकरे की बलि देने के बाद पाकिस्तान से एक और चौंकाने वाली खबर आई है. हाल ही में इस बार इस बार उसने ऐसी हरकत की है जिससे सुनने के बाद हर किसी के होश उड़ जाएंगे. पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस में यात्रियों की सुरक्षा को दरकिनार करते हुए तीन घंटे तक फ्लाइट के भीतर सात पैसेंजर्स को खड़े रखा. कराची से मदीना की फ्लाइट PK-743 में ये घटना 20 जनवरी को हुई थी.

लोकल बस की तरह लोगों को खड़ा कर विमान ने भरी उड़ान :

अखबार ने लिखा है कि इन सातों यात्रियों को हाथ से लिखे गए बोर्डिंग पास जारी किए गए थे. लापरवाही की जानकारी पर एयरलाइंस के प्रवक्ता दान्याल गिलानी ने कहा कि मामले की जांच हो रही है और दोषियों पर उचित कार्रवाई होगी. हालांकि, यह तय नहीं है कि जांच रिपोर्ट कब तक आएगी.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह घटना 20 जनवरी की है और फ्लाइट पाकिस्तान के कराची से सऊदी अरब के मदीना जा रही थी. सभी सीटें फुल थीं. कराची से मदीना का सफर तीन से चार घंटे का है। विमान में कुल 416 यात्री सवार थे. जबकि स्टाफ सदस्यों को शामिल करने के बाद इसकी कुल क्षमता 409 यात्री की ही है. एक पाकिस्तानी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक जो अतिरिक्त यात्री विमान में थे उन्हें हाथ से लिखे बोर्डिंग पास दिए गए थे.

अखबार ने लिखा है कि पहले पायलट, एयरलाइंस स्टाफ, एयर होस्टेस सभी एक-दूसरे पर दोष मढ़ते रहे. हालांकि एविएशन रेगुलेटर और सिविल एविएशन अथॉरिटी ने भी यात्रियों की सुरक्षा को खतरे में डालने वाली इस चूक पर कर्मचारियों के खिलाफ कोई भी एक्शन नहीं लिया. गौरतलब है कि बीते दिसंबर माह में पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस का एक विमान क्रैश कर गया था और इसमें फ्लाइट पर सवार सभी 48 यात्री अपनी जान गवां बैठे. हालांकि यह अपने तरह का पहला मामला सामने आया है जहां किसी फ्लाइट पर क्षमता से अधिक लोग सवार हुए हैं.

पाकिस्तान एयरलाइंस के प्रवक्ता दान्याल गिलानी कहते हैं कि मामले की जांच-पड़ताल जारी है और दोषियों पर उचित कार्रवाई होगी. जांच की समयसीमा पर पूछे गए सवाल पर वे कहते हैं कि इस पर तय समयसीमा लागू करना संभव नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.