दिलचस्प

1999 में सैनिकों का हौसला बढ़ाने कारगिल गये थे PM मोदी, शेयर की ये तस्वीरें

भारत ने अंग्रेजों से आजादी बहुत मुश्किलों से पाई थी, करीब दो सौ सालों बाद भारत को आजादी मिली और इसमें कई लोगों की कुर्बानी शामिल है। देश आजादी के बहुत करीब था मगर उस समय हिंदू और मुस्लिम के बीच तनाव इतना बढ़ गया कि महात्मा गांधी को भारत के दो टुकड़े करने पड़े जिसमे एक तरफ हिंदू और एक तरफ मुस्लिम रहेंगे। उनके लिए पाकिस्तान बना लेकिन बहुत से मुस्लिम यहां रह गए। उसके बाद से ही पाकिस्तान अपना कब्जा हिंदुस्तान पर करना चाहता है लेकिन ये आसान भी तो नहीं है। उसी में हुआ कारगिल का युद्ध और उस दौरान 1999 में सैनिकों का हौसला बढ़ाने कारगिल गये थे PM मोदी, क्या हुआ था उस समय चलिए बताते हैं।

1999 में सैनिकों का हौसला बढ़ाने कारगिल गये थे PM मोदी

भारत और पाकिस्तान की पहली लड़ाई साल 1971 में हुई थी और दूसरी साल 1999 में और दोनों में ही भारत की शानदार जीत हुई थी। साल 1999 में हुए युद्ध को कारगिल युद्ध कहते हैं और उसे आज 20 साल हो गए हैं। 20 साल पहले भारतीय जवानों ने पाकिस्तानी जवानों को धूल चटाई थी। ऐसे में द्रास, कारगिल में आज सेना के शौर्य को सलाम किया जा रहा है और इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कारगिल विजय दिवस पर शहीदों को याद किया और साल 1999 में कारगिल युद्ध के दौरान उन्होंने अपने कश्मीर दौरे की तस्वीर भी शेयर की।

तस्वीर को शेयर करते हुए पीएम मोदी ने लिखा, ”1999 में कारगिल युद्ध के दौरान मुझे कारगिल जाने का मौका मिला और अपने बहादुर सैनिकों के साथ एकजुटता दिखाने का अवसर मिला था। ये वह समय था जब मैं जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में अपनी पार्टी के लिए काम कर रहा था और कारगिल की यात्रा और सैनिकों के साथ बातचीत अविस्मरणीय है।”

तस्वीरों के साथ ही पीएम मोदी ने एक ऑडियो भी जारी किया जिसमें मां भारती वीर सपूतों को याद किया गया है। उन्होंने कहा…”कारगिल ककरगिल के विजय दिवस पर शौर्य को सलामी
20 साल पहले करगिल में विजय का वो दिन, उनकी याद में,जो जंग से लौटकर घर ना आए, करगिल में भारतीय फतह के गर्व का वो लम्हा, जय हिंद,जय भारत,जय सेना,जय जय सैनिक।। कारगिल विजय दिवस की पूर्व संध्या पर सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा कि पाकिस्तान कभी दूसरे कारगिल युद्ध की हिम्मत नहीं कर सकता।

Back to top button