विशेष

हमारे देश को ‘भारत, इंडिया और हिंदुस्तान’ नाम से क्यों पुकारा जाता है? जानिए इसके पीछे की कहानी

हम सभी को अपने देश से बहुत प्यार हैं. इस देश में कई सारी ऐसी चीजे हैं जो इसे ख़ास बनाती हैं. मसलन देश में हर कौने में आपको भिन्न भिन्न संस्कृतियाँ और अलग अलग धर्म एवं जात पात के लोग देखने को मिल जाएंगे. इसके बावजूद यहां के लोग आपस में मिलजुल कर और शांति से रहना पसंद करते हैं. भारत की संस्कृति की चर्चा विदेशों तक होती हैं. कई विदेशी तो भारत आकर हिंदू धर्म को भी अपना लेते हैं. उन्हें भारत के भगवानो और रीती रिवाजों में बड़ी दिलचस्पी होती हैं. विदेशों में लोग हमारे देश को इंडिया नाम से जानते हैं. जबकि हम लोकल लोग इसे भारत कहना पसंद करते हैं. फिर कई लोग ऐसे भी हैं जो इसे हिंदुस्तान कहते हैं. अब ऐसे में क्या आप ने कभी सोचा हैं कि आखिर हमारे देश को इन तीन नामों ‘भारत, इंडिया और हिंदुस्तान’ से ही क्यों पुकारा जाता हैं? आखिर वो क्या वजह थी जो देश का नाम ये पड़ा. दरअसल इन सभी नामो के पीछे एक दिलचस्प कहानी छिपी हुई हैं जो आज हम आपको बताने वाले हैं.

देश का नाम भारत कैसे पड़ा?

हमारे संविधान में आधिकारिक रूप से देश का नाम ‘भारत’ रखा गया हैं. यह नाम भगवान राम के पूर्वज सम्राट भरत चक्रवर्ती के नाम के आधार पर रखा गया हैं. दरअसल सम्राट भरत के साम्राज्य की सीमा कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक जाती थी. मोटे तोर पर उनका साम्राज्य पुरे देश में  कई जगहों तक फैला था. ऐसे में उन्ही के नाम पर देश का नाम भारत रखा गया था.

हिंदुस्तान नाम के पीछे हैं ये कहानी

कई लोग हमारे देश को हिंदुस्तान कहना पसंद करते हैं. यह नाम का संबंध हिमालय के पश्चिम में बहने वाली सिंधु नदी से हैं. सिंधु नदी के पास बसे एक बड़े भूभाग को सिंधु घाटी कहा जाता था. इस घाटी की सभ्यता बहुत पुरानी और पॉपुलर हैं. यहां स्टार्टिंग में तुर्कीस्तान के लूटेरों और इरानी लोग आए थे. इन्होने यहां रहने वाले लोगो को सिंधु के आधार पर हिंदू नाम दे दिया. उस दौरान ये लुटेरे हमारे देश को हिंदुस्तान कह कर पुकारा करते थे. ऐसे में हमारे देश के लोगो ने भी इस शब्द का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया. अब देश का ये नाम भी काफी फेमस हो चूका हैं.

इसलिए देश को कहते हैं इंडिया

वर्तमान में पूरी दुनियां के लोग हमारे देश को इंडिया के नाम से ही जानते हैं. आपको जान हैरान होगी कि ये नाम हमारे देश के लोगो ने नहीं बल्कि अंग्रेजो ने रखा था. दरअसल सिंधु नदी को अंग्रेजी में ‘इंडस वैली’ के नाम से भी जाना जाता था. ऐसे में जब अंग्रेज देश में राज करने आए थे तो उन्हें भारत और हिंदुस्तान जैसे शब्द कहने में परेशानी होती थी. इस कारण वे सिंधु नदी के दुसरे नाम इंडस वैली के आधार पर देश को इंडिया कह कर पुकारने लगे. बस तभी से देश का बाहर की दुनियां के लिए नाम इंडिया ही पड़ गया.

यदि आपको ये जानकारी अच्छी लगे तो इसे दूसरों के साथ भी शेयर करना ना भूले ताकि वे भी अपने देश की जानकारी रख सके.

Back to top button