वीरान जिंदगी और गुमनाम मौत पाने वाली परवीन के लिए महेश भट्ट ने बनाई थी ये खास फिल्म

हुस्न, शोहरत, लाखों दीवानों और फिर भी वीरान जिंदगी और उससे भी गुमनामी भरी मौत। ये असल कहानी थी परवीन बॉबी की जिनके दीवानों की जिंदगी में कोई कमी नहीं थी, लेकिन एक भी सच्चा दोस्त नहीं था। उनकी जिंदगी जितनी हसीन और चर्चित रही मौत उतनी ही गुमनामी भरी और जब यह राज सामने आया तो लोगों को यकीन नहीं हुआ कि ये वही अदाकारा है जिसके पीछे दुनिय़ा दीवानी रहती थी वह आज ऐसी मौत पाई हैं। उनकी जिंदगी को दर्शाने के लिए उनके सबसे करीबी शख्स में से एक थे महेश भट्ट जिन्होंने उनके ऊपर पूरी फिल्में बना दी थीं.

महेश भट्ट ने बनाई थी वो लम्हे

2005 में परवीन बॉबी ये दुनिय़ा छोड़ कर चली गईं और 2006 में महेश भट्ट ने फिल्म बनाई वो लम्हे। हालांकि इस फिल्म को खुलकर कभी परवीन बॉबी की फिल्म नहीं बताई, लेकिन ऐसा माना जाता था कि यह फिल्म उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए महेश भट्ट ने बनाई थी। 20 जनवरी को परवीन बॉबी की डेथ एनिवर्सिरी होती है। साल 2005 में वह हमेशा के लिए इस दुनिया को छोड़ कर चली गई थी और अपने पीछे कुछ ऐसे सवाल भी छोड़ गईं जिसका पता आज तक नहीं चल पाया।

महेश भट्ट ने परवीन बॉबी की जिंदगी को एक कहानी में पीरोकर दिखाने की कोशिश की थी। वो लम्हे में कंगना ने परवीन बॉबी का रोल प्ले किया था। फिल्म पर्दे पर नहीं चली और बुरी तरह फ्लॉप हुई थी, लेकिन किस्से फैल गए थे कि फिल्म परवीन बॉबी के नाम पर बनाई गई। परवीन को सीजोफ्रेनिया नाम की बीमारी हुई थी और उनकी जिंदगी तनाव में गुजरने लगी थी। उन्होंने कभी शादी नहीं की और अकेलेपन वाली जिंदगी बर्दाश्त के बाहर हो गई थी। उनकी जिंदगी में लोग तो कई आए, लेकिन साथ कोई नहीं दे पाया।

बेहद करीब थे परवीन और महेश

महेश भट्ट परवीन बॉबी की जिंदगी में सबसे करीबी लोगों में से एक थे। ऐसा माना जाता है कि महेश भट्ट की फिल्म अर्थ परवीन बॉबी की जिंदगी पर आधारित फिल्मथी। यह फिल्म सुपरहिट रही थी और इसी फिल्म नें महेश भट्ट को रातों रात स्टार बना दिया था। महेश भट्ट और परवीन बॉबी के बीच रोमांस 1977 के आखिर में शुरु हुआ था। हालांकि महेश भट्ट उस वक्त शादीशूदा थे और उनकी बेटीपूजा भट्ट भी थी, लेकिन सब कुछ छोड़छाड़ कर वह परवीन बॉबी के साथ रहने लगे थे।

परवीन के लिए वही समय सबसे अच्छा था जब वह महेश भट्ट के साथ थीं। हालांकि तीन साल बाग महेश परवीन से अलग हो गए और परवीन बॉबी के लिए यह दूरी बर्दाश्त करना मुश्किल हो गया। वह दिन भर नशे में डूबे रहने लगीं। उन्होंने अपना वजन बढ़ा लिया और सोशल लाइफ से खुद को काट लिया। उनकी जिंदगी में कोई दोस्त भी नहीं रह गया था। फिल्मी सेट पर कई बार वह पागलों सी हरकत करती थीं और उनका आरोप था की लोग उन्हें मारने की साजिश रच रहे हैं। वह इंसी डर और चिंता में जीती रहीं और अपने आप को सोशल लाइफ से दूर कर लिया। उनी मौत हुई तो तीन दिन तक उनके शरीर के बारे में किसी को पता नहीं चला और जब राज खुला तो लोगों को यकीन नहीं हुआ कि अपने हुस्न से सबको दीवाना बनाने वाली परवीन अब इस दुनिया में नहीं रहीं।

यह भी पढ़ें