यूएन में ट्रम्प ने की भारत की तारीफ़, भारत एक फ़्री सोसायटी, यहाँ गरीबी से लाखों लोग बाहर निकले

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बारे में किसी को कुछ बताने की ज़रूरत नहीं है। आए दिन यह कोई ना कोई ऐसा काम करते हैं, जिसकी वजह से यह चर्चा में बने रहते हैं। ट्रम्प को लेकर अमेरिका में लोग जमकर विरोध भी करते हैं तो कई लोग उनकी तारीफ़ भी करते हैं। इस बार ट्रम्प ने भारत की तारीफ़ की है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने संयुक्त राष्ट्र की 73वें सत्र को सम्बोधित करते हुए भारत की जमकर तारीफ़ की। उन्होंने कहा कि भारत एक स्वतंत्र समाज है। वहाँ लाखों लोग ग़रीबी से निकलकर मिडिल क्लास में आ रहे हैं।

ग़रीबी से उठाते हुए पहुँचा दिया माध्यम वर्ग में:

उन्होंने कहा कि भारत में लाखों लोगों को सफलतपूर्वक ग़रीबी से बाहर निकाला गया है। ट्रम्प ने सत्र को सम्बोधित करते हुए कहा कि उन्होंने जब से अमेरिका की सत्ता सम्भाली है तब से अमेरिका का विकास बहुत तेज़ी से हुआ है। संयुक्त राष्ट्र महासभा की मंगलवार को शुरू हुए जनरल डिबेट को दूसरी बार सम्बोधित करते हुए ट्रम्प ने कहा, भारत, जहाँ का समाज मुक्त है और लाखों लोगों को सफलतापूर्वक ग़रीबी से ऊपर उठाते हुए माध्यम वर्ग में पहुँचा दिया है।

ट्रम्प ने अपने लगभग 35 मिनट के सम्बोधन में कहा कि वर्षों से संयुक्त राष्ट्र महासभा के हॉल में इतिहास देखा गया। अपने देशों की चुनौतियों, अपने समय के बारे में यहाँ बताने आए लोगों ने अपने भाषणों और प्रस्तावों में कई सवाल पेश किए। यह सवाल है कि हम अपने बच्चों के लिए किस तरह की दुनिया छोड़कर जाएँगे और कैसा देश उन्हें उत्तराधिकार में मिलेगा। ट्रम्प ने कहा कि जो सपने यूएनजीए के हॉल में आज दिखा, वह उतना ही विविध है, जितना इस पोडियम पर खड़े लोग और उतना ही विविध जितना संयुक्त राष्ट्र में दुनिया के देशों का प्रतिनिधित्व है।

सुषमा स्वराज करेंगी 29 सितम्बर को सम्बोधित:

उन्होंने ने आगे कहा कि संयुक्त राष्ट्र केवल उन्ही देशों को सहायता देगा जिन्हें वह अपना सहयोगी मानता है। हम देखेंगे कि कहाँ काम हो रहा है और क्या जो देश हमारे डॉलर और हमारी सुरक्षा लेते हैं वो हमारे हितों का ख़याल रखते हैं या नहीं। उन्होंने कहा कि हम केवल उन्ही विदेशी लोगों को सहायता देने जा रहे हैं, जो हमारा सम्मान करते हैं और स्पष्ट रूप से अमेरिका के दोस्त हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें संयुक्त राष्ट्र के इस सत्र में भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी पहुँची हुई हैं। सुषमा स्वराज यूएनजीए के सत्र को 29 सितम्बर को सम्बोधित करेंगी।

इस दौरान सुषमा स्वराज विभिन्न देशों के अपने समकक्षों के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगी साथ ही दक्षेस और ब्रिक्स जैसे संगठनों के साथ भी बहुपक्षिय वार्ता करेंगी। जानकारी के अनुसार संयुक्त राष्ट्र महासभा सत्र के दौरान हो रही इस उच्चस्तरीय बैठक में संयुक्त राष्ट्र के 120 से ज़्यादा सदस्य हिस्सा ले रहे हैं। इस बैठक में विश्व स्तर पर नशीली चीज़ों की समस्या से छुटकारा पानें के लिए चर्चा की जा रही है। अगर भारत की बात करें तो भारत के लिए शीर्ष प्राथमिकताओं मी बेहतर बहुपक्षिय सम्बंध, जलवायु कार्य योजना, सतत विकास, शांति और सुरक्षा से जुड़े शामिल होंगे।