‘दीपिका’ से ज्यादा खूबसूरत है ‘खिलजी की बीवी’ बनी यह एक्ट्रेस, यकीन नहीं तो खुद देखिए तस्वीरें

मुम्बई कोर्ट ने भले ही फिल्म पद्मावती को रिलीज करने का फैसला दे दिया हो लेकिन इसके बावजूद भी विवाद खत्म नहीं हुआ है। आपको बता दें कि कोर्ट ने फिल्म को 25 जनवरी यानि आज रिलीज करने का आदेश दिया है, इसके बावजूद करणी सेना और अन्य संगठनों का विरोध-प्रदर्शन अभी भी जारी है। पहले संजय लीला भंसाली की यह फिल्म 1 दिसंबर को रिलीज होनी थी, लेकिन अब इसे 25 तारीख को रिलीज करने की बात चल रही है। लेकिन, करणी सेना ने कहा है कि अगर यह फिल्म रिलीज होती हैं तो वो सिनेमाघर जला सकते हैं। इसी बीच कई थियेटरों में आगजनी की खबरे भी सामने आई हैं।

ये बात तो आप जानते ही होंगे कि इस फिल्‍म में रानी पद्मावती का किरदार दीपिका पादुकोण ने निभाया है। दीपिका ने अपनी खूबसूरती और तेवरों से फिल्म में एक नई जान फूंक दी है। दीपिका को रानी पद्मावती के किरदार में देखना सभी को पसंद आ रहा है। लेकिन, इस फिल्म में एक और एक्ट्रेस भी है जिसकी खूबसूरती दीपिका को टक्कर देती नज़र आ रही है। दरअसल, इस फिल्‍म में अलाउद्दीन खिलजी की बीवी का किरदान अभिनेत्री अदिति राव हैदरी ने निभाया है, जिनकी खूबसूरती दीपिका के बराबर की नज़र आती है।

अदिति राव

आपको बता दें कि यह फिल्‍म खिलजी और चित्‍तौड के राजा रावल रतन सिंह के बीच लड़े गए युद्ध को दिखाती है। फिल्म में दिखाया गया है कि अलाउद्दीन खिलजी महारानी पद्मावती की एक झलक देखकर उनकी चाहत में पागल हो जाता है। प्यार में पागल खिलजी उन्‍हें पाने की कोशिश में उनके राज्य पर हमला कर देता है। बात अगर विवाद की करें तो कहा जा रहा है कि फिल्म में अलाउद्दीन खिलजी का गुणगान किया गया है।

फिल्म में खिलजी और रानी पद्मिनी के बीच कुछ ड्रीम सीक्वेंस हैं जो करणी सेना को बिल्कुल भी पसंद नहीं आ रहे हैं। करणी सेना के मुताबिक, रानी पद्मावती को फिल्म उस तरह दिखाया गया जैसा राजपूत या राजपरिवारों में कभी नहीं हुआ। फिल्म के गाने घूमर को लेकर कहा जा रहा है कि पुरुषों के सामने कभी रानियां डांस नहीं किया करती थी। करणी सेना का कहना है कि इतिहास में ऐसा कहीं जिक्र नहीं है कि पद्यावती और खिलजी के बीच कोई संबंध था। यह फिल्म इतिहास और राजपूताना का अपमान है।

गौरतलब है कि भले ही रानी पद्यावती पर फिल्म बन हो और पूरे देश में इसका विरोध हो रहा हो, लेकिन सच्चाई ये है कि इतिहास में कहीं भी रानी पद्यावती का जिक्र नहीं किया गया है। कुछ इतिहासकारों के मुताबिक, इतिहास में रानी पद्मावती नाम का कोई किरदार था ही नहीं बल्कि ये तो मात्र हिन्दी साहित्य ‘पद्मावत’ का एक काल्पनिक चरित्र थीं। आपको बता दें कि 16वीं शताब्दी में मलिक मुहम्मद जायसी द्वारा लिखे गए पद्मावत में पद्मावती का जिक्र मिलता है। राजस्थान की पाठ्य पुस्तकों में और कई ऐतिहासिक पुस्तकों में भी रानी पद्मावती के जौहर की कहानियां पढ़ने को मिलती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.