सगाई में कुछ ही दिन शेष थे, पर हुआ कुछ ऐसा की बदल दी पूरी जिंदगी

इंदौर : मौत का कोई भरोसा नहीं किया जा सकता. ये कभी भी किसी को भी लेने आ पहुँचती है. भले इंसान कितना भी खुश क्यूँ ना हो, मौत उस पर रहम नहीं खाती. कुछ ऐया ही मौत का मंजर हाल ही में इंदौर में देखने को मिला . जहाँ एक तरफ चौराहे पर बैठे लोग मौसम के आगोश मे थे वहीँ दूसरी तरफ एक प्रेमी जोड़ा कार में अपने नए जीवन को लेकर सपने बन रहा था. लेकिन यह शाम उनकी जिंदगी की आखिरी शाम होगी ये पता चलने से पहले उनकी कार टैंकर में जा घुसी. इंदौर के चौक पर घटने वाले एक कार हादसे में जहाँ लड़की मौके पर ही मर गई, वहीं उसका प्रेमी अभी भी बची सांसें ले रहा था. जानकारी के अनुसार इस हादसे में कार टूट कर चकना चूर हो गई कि उसको निकालने के लिए क्रेन को बुलाना. चार की खस्ता हालत के चलते उसको दो हिस्सों में काट कर दोनों प्रेमियों को बाहर निकालना पड़ा. जानकारी के अनुसार दोनों हाल ही में सगाई करने वाले थे लेकिन जिंदगी अचानक से रुक जाएगी ये उन्होंने कभी सोचा नही था. चलिए जानते हैं पूरे मामले के बारे में विस्तार से…

दरअसल, यह दिल दहला देने वाला हादसा बीते शनिवार की रात्रि का है जब घर से घूमने के लिए निकला जोड़ा राऊ गोल के पास पहुंचने वाले थे. जानकारी के मुताबिक लड़के का नाम यश व लड़की का नाम उपासना था. इनमें यश एक रेस्टोरेंट का मालिक था तथा होने वाली पत्नी उपासना अमेज़न कम्पनी में काम करती थी. अभी चौक कुछ दूरी पर ही था कि यश के सामने से एक कार निकली जिससे अपने स्टेरिंग से नियंत्रण खो दिया और कार सीधे उस टैंकर में घुस गया जो आधे घंटे से रोड के साइड में खड़ा था. देखा गया कि गति तेज होने की वजह से कार का अगला पूरा हिस्सा टैंकर के अंदर समा चुका था.

यह एक ऐसा दर्दनाक हादसा था जिसमे पब्लिक भी उनकी कोई मदद नही कर पा रही थी. वहां मौजूद लोगों ने बताया  कि दोनो का शरीर हादसे के बाद खून से सना था. परंतु, कार के अंदर फंसे होने के कारण लोग उनकी मदद करने से असमर्थ थे. तभी उनमें से एक नागरिक ने पुलिस के घटना की खबर दी जिसके बाद टैंकर को काटकर इस जोड़ी को निकाला गया. पुलिस ने जल्दबाजी दिखाते हुए दोनो को अस्पताल ले गए लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी.डॉक्टर्स ने उपासना को मृत घोषित कर दिया. वहीं यश की हालत भी काफी  गंभीर बताई जा रही  है फिलहाल उसको ICU में रखा गया है.

मिली जानकारी के अनुसार दोनो को के घर में सगाई को लेकर खुशियों का माहोल बना हुआ था. लेकिन अपने सामने  बेटी की लाश देख सबके पाँव तले से ज़मीन ही खिसक गई. उन्ही में से एक शख्स ने बताया है की यश और उपासना दोनो एक दूसरे से प्यार करते थे और कुछ दिन बाद उनकी मंगनी भी होने वाली थी लेकिन भगवान को कुछ और ही मंजूर था. उपासना के भाई ने बताया कि “दीदी और जीजू दोनो शनिवार को बाहर घूमने निकल थे और खुश थे लेकिन वो मुझे छोड़कर चली जाएँगी ऐसा मैंने सपने में भी नहीं सोचा था”.

वहीं स्थानीय लोगो ने इस बात से सहमति जताई है कि राऊ गोल चौराहा एक ऐसा चौक है जहां आये दिन हादसे होते रहते हैं. शहर में होने वाले सभी हादसों की तहकीकात में पुलिस ने इस चौराहे को ब्लैक स्पोर्ट जोन में गिना है क्योंकि यह 26वां हादसा है. सभी लोग इस चौराहे पर आने से डरते हैं क्योंकि आये दिन यहां ऐसे हादसे होते हैं जिसमे व्यक्ति का नामोनिशान नही बचता.