किसी को भी अपनी ओर आकर्षित करने के लिए बोलें ये वशीकरण मंत्र, लोग खींचे चले आएंगे

हिन्दू धर्म में कई ऐसे मन्त्रों और विधानों के बारे में बताया गया है, जिनका जाप करने या अपनाने के बाद व्यक्ति की पूरी जिंदगी ही बदल जाती है। इसी में से एक है गायत्री मंत्र का पाठ। माता गायत्री को प्रसन्न करने के लिए गायत्री मंत्र का जाप करना चाहिए। अगर आप लम्बे समय तक ध्यान करते हुए इस मंत्र का जाप करते हैं तो आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं। इस मंत्र का लगातार जाप करने से व्यक्ति के अन्दर सम्मोहन शक्ति का भी विकास होता है।

हिन्दू धर्म शास्त्रों में गायत्री मंत्र को सबसे सर्वश्रेष्ठ मंत्र बताया गया है। इस मंत्र का जाप करने के लिए तीन समयों के बारे में भी बताया गया है। इन तीन समयों को संध्याकाल भी कहा जाता है। गायत्री मंत्र के जाप का पहला समय सूर्योदय है। सूर्य निकलने से थोड़ी समय पहले ही इस मंत्र का जाप शुरू कर देना चाहिए। गायत्री मंत्र का जाप तब तक करना चाहिए जब तक सूर्योदय ना हो जाये। गायत्री मंत्र के जाप का दूसरा समय दोपहर है।

गायत्री मंत्र के जाप का तीसरा समय शाम के समय है। मंत्र का जाप सूर्यास्त से कुछ देर पहले ही करना चाहिए और तब तक करना चाहिए जब तक सूर्यास्त ना हो जाये। गायत्री मंत्र का जाप धीमी आवाज में करना चाहिए। इन तीन समयों के अलावा गायत्री मंत्र का जाप मौन रहकर मानसिक रूप से कभी भी किया जा सकता है। गायत्री मंत्र का जाप वैसे तो किसी भी तरह की माला से किया जा सकता है लेकिन रुद्राक्ष की माला का उपयोग करना ज्यादा श्रेष्ठ माना जाता है।

गायत्री मंत्र:

ऊँ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि। धियो यो न: प्रचोदयात्।।

अर्थ:

सृष्टिकर्ता प्रकाशमान परामात्मा के तेज का हम ध्यान करते हैं, परमात्मा का यह तेज हमारी बुद्धि को सन्मार्ग की तरफ चलने के लिए प्रेरित करें।

गायत्री मंत्र के जाप से मिलते हैं यह लाभ:

*- जो लोग गयात्री मंत्र का जाप सच्चे मन से करते हैं उनके उत्साह और सकरात्मका में वृद्धि होती है।

*- गायत्री मंत्र का जाप करने वाले लोगों के चेहरे पर चमक आ जाती है।

*- गायत्री मंत्र का पाठ करने वाले लोगों के मन से तामसिकता दूर रहती है।

*- जो लोग गायत्री मंत्र का पाठ करते हैं उनके अन्दर परमार्थ कार्यों को करने की इच्छा जागृत होती है।

*- गायत्री मंत्र का पाठ करने वाले लोगों में पूर्वाभास की शक्ति उत्पन्न हो जाती है।

*- गायत्री मंत्र का नियमित जाप करने वाले लोगों में आशीर्वाद देने की शक्ति बढती है।

*- गायत्री मंत्र का जाप करने वाले व्यक्ति की आँखों में तेज आ जाता है।

*- गायत्री मंत्र जपने वाले व्यक्ति को स्वप्न सिद्धि की प्राप्ति होती है।

*- मंत्र का जाप करने वाले व्यक्ति का क्रोध शांत रहता है।

*- गायत्री मंत्र का जाप करने वाले व्यक्ति में ज्ञान की वृद्धि होती है।

*- गायत्री मंत्र के जाप से जिन लोगों को यह शक्तियाँ प्राप्त हो जाती हैं, उन्हें सम्मोहन की शक्ति भी अपने आप ही मिल जाती है।

इस मंत्र का लगातार जाप करने से आन्तरिक शक्ति का विकास होता है। जो लोग हर रोज इस मंत्र का जाप करते हैं, उनका स्वभाव शांत और आकर्षक हो जाता है। सम्मोहन शक्ति बढ़ने की वजह से लोग आपकी बातें सुनने लगते हैं।