विशेष

बिहार में ‘तख्तापलट’ के बाद अमित शाह और नरेन्द्र मोदी के निशाने पर हैं ये राज्य

नई दिल्ली – बिहार की चुनावी हार को बीजेपी अध्यक्ष नरेन्द्र मोदी और अमित शाह ने 20 महीनों के बाद ही सही लेकिन जीत में बदल दिया। बिहार में उन्होंने अपने घूर विरोधियों को धूल चटा दी। ये वहीं नीतीश कुमार हैं जिन्होंने 2015 में बिहार चुनावों के दौरान पीएम नरेन्द्र मोदी पर लगातार हमला कर रहे थे। किसको पता था कि 20 महीने के अंदर ही नीतीश कुमार फिर से बीजेपी का दामन थाम लेंगे। लेकिन, ये हुआ। दरअसल, बिहार में फतह के बाद नरेन्द्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी एक-एक कर देश के कई राज्यों पर फतवा लहराने की तैयारी कर रही है। तो चलिए आपको बता देंते हैं कि नरेन्द्र मोदी और अमित शाह के निशाने पर अब कौन-कौन से राज्य हैं। Delhi and tamilnadu next on amit shah list.

दिल्ली 

जिस पार्टी की देश के 60 प्रतिशत राज्यों में सरकार हो और सत्ता के केन्द्र दिल्ली में न हो उसके लिए यह एक प्रतिष्ठा की बात हो जाती है। दिल्ली एक ऐसा राज्य है जहां बीजेपी ने राजनीति का एबीसीडी भी न जानने वाले केजरीवाल में मात खायी है। ऐसे समय में जब हरियाणा, महाराष्ट्र जैसे राज्यों में बीजेपी ने पहली बार सरकार बनाई है, दिल्ली में पार्टी का पूरा नेतृत्व मौजूद रहने के बावजूद दिल्ली दूर खड़ा है।

 

तमिलनाडु

तमिलनाडु भी एक ऐसा राज्य है जहां बीजेपी अपना झंडा फहराने की फिराक में है। पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की मौत के बाद बीजेपी के लिए दक्षिण में पार्टी की साख बनाने के दरवाजे खोल दिये हैं। एआईएडीएमके में नेतृत्व विवाद और बढ़ती गुटबाजी ने बीजेपी का काम आसान कर दिया है। रजनीकांत को बीजेपी में शामिल होने का न्यौता देकर बीजेपी ने इसकी शुरुआत भी कर दी है। मोदी लहर को भुनाने के लिए बीजेपी पहले दक्षिण में अपना संगठन मजबूत करना चाहती है।

अमित शाह का लक्ष्य ऐसी भाजपा बनाना जो अपराजेय हो

उत्तर प्रदेश के तीन दिनों के लिए आए भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि हमारा लक्ष्य ऐसी भाजपा बनाना है जो अपराजेय हो। संगठन की बैठक में शाह ने कहा, “देश के कई राज्यों में सरकार बनाने के बाद पार्टी की ताकत लगातार बढ़ रही है। ऐसे में हम सबका लक्ष्य ऐसी भाजपा बनाना है, जो अपराजेय हो।” इस मौके पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कार्यकर्ता का हौसला बढ़ाते हुए कहा, “कार्यकर्ता हमारी ताकत हैं और कार्यकर्ताओं की मेहनत से ही देश और प्रदेश में ये बड़ी विजय हासिल हुई है।”

Related Articles

Close