पाकिस्तान ने जमात-उद-दावा और लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी सरगना हाफिज सईद को लाहौर में नजरबंद करने के बाद अब उसके खिलाफ एक और बड़ी कार्रवाई की है. पाकिस्तान ने उसके देश से बाहर जाने पर रोक लगा दी है. हालांकि, भारत ने पाकिस्तान की मंशा पर संदेह जताया है. भारत का कहना है कि पाकिस्तान को हाफिज सईद पर सख्त कार्रवाई कर आतंकवाद के खिलाफ दुनिया को कड़ा संदेश देना चाहिए.

Pakistan political crisis

हाफिज सईद अब पाकिस्तान से बाहर नहीं जा पाएगा :

अमेरिका में सत्ता परिवर्तन ने पाकिस्तान की आंखों की नींद उड़ा दी है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की चेतावनी के बाद पहले तो पाकिस्तान ने आतंकी हाफिज सईद को घर में नजरबंद किया और अब हाफिज का नाम ‘एग्ज़िट कंट्रोल लिस्ट’ में भी शामिल कर दिया. इस लिस्ट में शामिल होने का मतलब है कि हाफिज सईद अब पाकिस्तान से बाहर नहीं जा पाएगा.

सोमवार को पाकिस्तान ने अमेरिका के दबाव में मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज को उसके सहयोगियों के साथ घर में नजरबंद कर दिया था. पाकिस्तान के आंतरिक मंत्रालय ने सभी प्रांतीय सरकारों और जांच एजेंसी को एक पत्र भेजा है. जिसमें 38 लोगों का नाम शामिल है. इसी सूची में हाफिज का नाम भी जोड़ा गया है. इनमें से किसी को भी पाकिस्तान से बाहर जाने की इजाजत नहीं मिलेगी.

आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के सरगना हाफिज सईद को 90 दिनों तक घर में नजरबंद रखने का आदेश दिया गया है. हालांकि,भारत ने पाकिस्तान के इस कदम पर शंका जाहिर की है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरुप ने कहा था कि हाफिज सईद और अन्य के खिलाफ इस तरह की कवायद पहले भी पाकिस्तान कर चुका है. अच्छा होगा कि आतंकवाद में शामिल संगठनों पर भरोसेमंद कार्रवाई कर पाकिस्तान अपनी ईमानदारी का सबूत दे. इससे पहले 2008 में हुए मुंबई आतंकी हमले के बाद भी हाफिज को नजरबंद किया गया था. लेकिन बाद में साल 2009 में उसे आजाद कर दिया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.