मंत्री की पत्नी से टोलकर्मी ने मांगा 56 रुपये टैक्स, तो मैडम ने आगे जो किया वो देखिये

आंध्र प्रदेश के नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रथिपति पुल्ला राव की पत्नी पी वेंकट कुमारी ने तेलंगाना के नलगोंडा जिले में हैदराबाद-गुंटूर राजमार्ग के टोल प्लाजा पर जमकर हंगामा किया। मंत्री प्रथिपति पुल्ला राव की पत्नी पी वेंकट ने 56 रुपये टोल टैक्स न भरने की ज़िद पर अड़ गई थी, जिसके बाद उन्होंने वहां मौजूद लोगों के साथ जमकर हंगामा किया। दरअसल, पी वेंकट का कहना था कि उनकी गाड़ी क्यों रोकी गई, जबकि यह गाड़ी विधायक और मंत्री की है, जिसकी वजह से दोनों पक्षों में जमकर वाद विवाद हुआ। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए क्या खास है?

पी वेंकट कुमारी ने 56 रुपये का टोल टैक्स न भरने की जिद में जोर शोर से हंगामा किया, जिसकी वजह से काफी देर तक यातायात प्रभावित हुई। दरअसल, टोल कर्मियों ने पी वेंकट कुमारी से 56 रुपये टोल टैक्स भरने को कहा, तो मैडम भड़क कई और उन्होंने चिल्लाते हुए कहा कि आपकी हिम्मत कैसे हुई गाड़ी रोकने की, जिसके बाद मामला बढ़ता गया और कुछ ही पल में बहस और अधिक बढ़ गया। इस पूरे प्रकरण में टोलकर्मी और पी वेंकट कुमारी के बीच लंबी बहस देखने को मिली, क्योंकि दोनों ही ज़िद पर अड़े हुए थे।

मैं मुफ्त यात्रा की हकदार हूं- पी वेंकट कुमारी

जब टोलकर्मी ने पी वेंकट कुमारी की गाड़ी रोकी और 56 रुपये की मांग की, तो उन्होंने चिल्लाते हुए कहा कि मैं अभी भी मंत्री की पत्नी हूं और सभी बूथों पर मुफ्त में यात्रा करने की हकदार हूं। पी वेंकट कुमारी ने आगे कहा कि अभी चुनावी नतीजें आए नहीं है, ऐसे में मेरे पति अभी भी मंत्री और विधायक है, जिसकी वजह से मेरे पास अधिकार है कि मैं फ्री में चलूं, लेकिन टोलकर्मी मेरी गाड़ी को आगे नहीं जाने दे रहे हैं, जोकि अपने आप में ही दुखद है।

मेरे लिए बुरा अनुभव था- पी वेंकट कुमारी

पी वेंकट कुमारी ने आगे कहा कि मेरे जीवन का यह सबसे बुरा अनुभव था, क्योंकि ऐसा मेरे साथ कभी भी नहीं हुआ, जबकि मैं अक्सर इसी रोड पर सफर करती हूं, लेकिन कभी किसी ने गाड़ी नहीं रोकी। पी वेंकट कुमारी ने कहा कि अभी सिर्फ चुनाव हुए हैं, लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि वे अभी मंत्रीपद से हट चुके हैं, ऐसे में ये मेरा अधिकार था, लेकिन टोलकर्मी ने मेरे साथ बहस की और मेरी गाड़ी को आगे नहीं जाने दिया, जोकि विशेषाधिकार का हनन है।

गाड़ी में विधायक नहीं थे- टोलकर्मी

इस पूरे प्रकरण में टोलकर्मी ने कहा कि गाड़ी तभी फ्री में जा सकती है, जब उसके अंदर विधायक हो, लेकिन इस गाड़ी में विधायक नहीं थे। साथ ही गाड़ी के ऊपर जो स्टीकर लगा हुआ था, उसकी वैधता भी दिसंबर 2018 में समाप्त हो चुकी है, ऐसे में हमारा अधिकार है कि हम टोल टैक्स वसूल करें, लेकिन मैडम ने टोल टैक्स न भरने की ज़िद पकड़ ली थी।