एक ऐसा मंदिर जिसके अंदर प्रवेश करने से डरते हैं लोग, जानें क्या है मंदिर की सच्चाई

इंसान को जब भी किसी बात का डर लगता है या भूत पिशाच से डर सताता है तो लोग भगवान को याद करते हैं। अगर भगवान को ध्यान भर करने से भी राहत नहीं मिलती है तो लोग मंदिर चले जाते हैं। मंदिर में भगवान का ध्यान करने से उनकी भक्ति से लोगों को राहत मिलती है, लेकिन क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि एक ऐसा मंदिर भी है जहां जाने से लोग डरते हैं। यहां तक की इस मंदिर के अंदर लोगों को भूत पिशाच का डर लगता है। इस मंदिर में जाने से लोगों को डर लगता है।

प्रसिद्ध मंदिर

ऐसा अनोखा मंदिर हिमाचल प्रदेश के चंबा एक छोटे से कस्बे भरमोर है। इस मंदिर में जाने से लोगों को भूतों का डर लगता है। हालांकि यह मंदिर छोटा सा है , लेकिन अपने इस अनोखेपन के कारण यह मंदिर दूर दूर तक प्रसिद्ध है। इस मंदिर को लेकर लोगों के मन में बहुत डर बसा है। यहां तक की लोग अंदर प्रवेश भी नहीं करते हैं और दूर से ही दर्शन करते हैं।आपके मन में यह सवाल उठ रहा होगा कि आखिर यह किस देवी देवता का मंदिर है जहां के प्रवेश पर लोगों को डर लगता है।यह मंदिर मृत्यु के देवता यमराज का है। उनका बना यह एकलौता मंदिर है जो भारत में मौजूद है।

लोग इस मंदिर के पास जाने से कतराते हैं। लोगों का मानना है कि यह मंदिर यमराज के लिए ही बनाया गया है और उनके अलावा कोई और इस मंदिर के अंदर प्रवेश नहीं कर सकता। इस मंदिर में चित्रगुप्त महाराज का भी एक कमरा है जिसमें लोगों के अच्छे बूरे कर्मों का लेखा जोखा होता है।

चित्रगुप्त भी हैं मौजूद

दरअसल यमराज व्यक्ति के प्राण तो उसके शरीर से अलग कर लाते हैं, लेकिन उसे स्वर्ग जाना है या नर्क इसका हिसाब वह चित्रगुप्त के लेखा जोखा देखने के बाद करते हैं। चित्रगुप्त महाराज जानवर, इंसान किसी भी जीवित प्राणी के कर्मों का लेखा जोखा करते हैं औऱ मृत्यु के पश्चात अगर उसके कर्म अच्छे होते हैं तो स्वर्ग और अगर खराब निकलते हैं तो नर्क भेज दिया जाता है।इस मंदिर को आप एक तरह से यमराज का दरबार समझ सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि मंदिर के अंदर चार दरवाजे हैं जो सोने , चांदी, तांबे और लोहे के बने हुए हैं। यह दरवाजा यह दर्शाता है कि ज्यादा पाप करने वाले की आत्मा लोहे के गेट से जाती है। उससे कम पाप की हुई आत्मा तांबे के दरवाजे से, उससे भी कम पाप किए हुए व्यक्ति की आतमा चांदी से निकलकर जाती है औऱ जिसने कोई पाप ना किया हो वह सोने के दरवाजे से बाहर निकलता है।

इतना दिलचस्प होने के कारण भी लोग इस मंदिर में नहीं जाना चाहते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि मंदिर के अंदर प्रवेश करना यमराज के पास जाना माना जाता है औऱ ऐसा तभी करते हैं जब व्यक्ति की मृत्यु हो चुकी हो। इस मंदिर के अंदर प्रवेश करने से लोगों को डर महसूस होता है। हालांकि इसी वजह से यह मंदिर लोगों को काफी आकर्षित करता है।

यह भी पढ़ें