सर्द हवाओं के बीच गर्म हो रहा अयोध्या का माहौल, 1992 के बाद जमा हुई ऐसी भीड़

राम मंदिर के मुद्दे पर रविवार को एकत्रित हाने वाली VHP औऱ शिवसेना की सभा से एक दिन पहले अयोध्या में मामला गंभीर हो गया है। रविवार को अयोध्या में करीब दो लाख लोग जुटेंगे। पुलिस प्रशासन पुरी तरह से तैनात है और लोगों के अंदर शंका भरी हुई है। दरअसल इसकी वजह यह है कि इतना भारी भीड़ से कुछ बड़ा होने की आशंका जताई जा रही है। 1992 के बाद से यह अब तक का बहुत बड़ी भीड़ मानी जा रही है। इस जमावड़े में करीब 1 लाख RSS, 1 लाख VHP और करीब 5 हजार शिवसेना के लोग इकट्ठा हो रहे हैं।

आज पहुंच जाएंगे उद्धव ठाकरे

बता दें कि राम मंदिर बनाने के लिए 25 नंवबर को बहुत बड़ी रैली या मेगाशो किया जा रहा है। मुंबई से शिवसेना के कार्यकर्ता दो दिन पहले ही अयोध्या पहुंच चुके हैं।पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे और उनके बेटे आदित्य ठाकरे भी अयोध्या पहुंच जाएंगे। कुछ बड़ा होने की आशंकास में पुलिस ने अयोध्या में पुख्ता इंतजाम कर दिए हैं। अर्द्धसैनिक बलों के जवान, राज्य की खुफिया विभाग और वरिष्ठ पुलिस अधिकारी शहर में तैनात हैं। शहर को आठ जोन और 16 सेक्टर में बांट दिया गया है।

शहर में धारा 144 लागू

शहर में पीएसी की 20 कंपनिया, अर्द्धसैनिक बल की सात और रैपिड एक्शन फोर्स की दो कंपनियों को तैनात किया गया है।अल्पसंख्यक परिवारों को असुरक्षा की भावना के बीच पूरे शहर में धारा 144 लगा दी गई है। बता दें कि करीब 1,322 बस और 1,56 फोर वीलर्स में 80 हजार वर्करों को लाया जाएगा। 14 हजार मोटरसाइकिल और करीब 15 हजार वर्कर ट्रेन के जरिए अयोध्या पहुंचेंगे।

आरएसएस, वीएचपी के साथ साथ शिवसेना इस मेगा शो में शक्ति प्रदर्शन करेगी। ठाणे से पांच ट्रेनों में करीब 3-4 हजार कार्यकर्ता अयोध्या पहुंचेंगे। इतना ही नहीं इस कार्यक्रम में पार्टी के 22 सांसदों और 62 विधायकों को भी अयोध्या पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है। अयोध्या के आस पास के कई होटलों को पहले ही बुक कर लिया गया है।

केंद्र सरकार पर निशाना

वीएचपी यानी विश्व हिंदू परिषद कार्यकर्ता रविवार को अयोध्या में जुटने वाले हैं और इनके साथ भारी संख्या में साधु संत भी होंगे।इसके लिए ब़ड़ी संख्या में खाने पीने के भी इंतजाम कर लिया गया है। इस आयोजन का हिस्सा बनने के मुख्य उद्देश्य बीजेपी सरकार पर दबाव डालकर राम मंदिर का प्रस्ताव लाना है।

मुस्लिम भी हो रहे शामिल

गौरतलब है कि इस मेगा शो में मुस्लिमों के आने की भी बात हो रही है। इसका जिम्मा संघ ने मुस्लिम राष्ट्रीय मंच को सौपा है। सुन्नी सोशल फोरम के संयोजक रईस खान ने बताया कि करीब 3000 लोगों को सूची है जो धर्मसभा में शामिल होंगे।उन्होंने कहा राम हमारे नबी हैं। हम बसों से लोगों को ले जा रहे हैं और इनमें महिलाएं भी शामिल हैं।

प्रभारी एसएसपी संजय कुमार ने बताया है कि राम जन्म भूमि परिसर के चारों तरफ त्रिस्तरीय बैरीकेडिंग करवाई गई है। पुलिस बल के साथ साथ वीडियो कैमरे, ड्रोन कैमरे से भी निगरानी की जा रही है। 47 कंपनी पीएसी व सिविल अयोध्या में तैनात कर दी गई है। पूरी सख्ती के साथ चैकिंग अभियान भी चल रहा है। इस मेगाशो में पूरी तरह से केंद्र सरकार पर दबाव डालकर राम मंदिर के लिए प्रस्ताव लाने की बात की जाएगी। शिवसेना का नया नासा है पहले मंदिर फिर सरकार। ऐसे में मंदिर बनवाने की सारी कवायद की जाएगी।

यह भी पढ़ें